Advertisements

हर घर के लिए खबर है महत्वपूर्ण, ट्राई ने किया स्‍पष्‍ट, नई टैरिफ व्यवस्था लागू करने की अंतिम तारीख 1 फरवरी नहीं बदलेगी

नई दिल्ली। ट्राई ने डीटीएच ऑपरेटरों से कहा है कि अगर उपभोक्ता लंबी व छोटी अवधि के प्री-पेड पैक जारी रखना चाहते हैं तो वे ऐसे पैक अवधि समाप्त होने तक जारी रखें। टेलीकॉम व ब्रॉडकास्टिंग सेवाओं के नियामक ट्राई की नई चैनल टैरिफ व्यवस्था एक फरवरी से लागू होने वाली है।

नई प्राइसिंग व्यवस्था लागू होने में अब महज एक दिन बाकी है। ऐसे में खबरें आ रही हैं कि कुछ डीटीएच ऑपरेटर लंबी अवधि के पैक लेने वाले उपभोक्ताओं पर नई व्यवस्था चुनने के लिए दबाव डाल रहे हैं।

ऐसे में ट्राई का यह निर्देश अहम माना जा रहा है। ट्राई के चेयरमैन आरएस शर्मा ने बताया कि नई टैरिफ व्यवस्था लागू करने की अंतिम तारीख एक फरवरी में कोई बदलाव नहीं होगा।

उन्होंने विश्वास जताया कि उपभोक्ता बिना किसी परेशानी के नई व्यवस्था के तहत अबाधित सेवाएं पाते रहेंगे। शर्मा ने कहा कि अगर ग्र्राहकों ने नई व्यवस्था के तहत अपने पसंदीदा चैनलों और पैक का चयन कर लिया है तो उनके पिछले लंबी या लघु अवधि के पैक का बकाया पैसा आगे समायोजित किया जाएगा।

जिन ग्र्राहकों ने लंबी व छोटी अवधि के मौजूदा प्लान के स्थान पर नई व्यवस्था में चैनलों का चयन अभी तक नहीं किया है तो उनका मौजूदा पैक उसकी अवधि पूरी होने तक जारी रहेगा। नई व्यवस्था में इसकी स्पष्ट व्यवस्था है।

ट्राई प्रमुख ने कहा कि अगर कोई डीटीएच ग्र्राहक लंबी अवधि के अपने मौजूदा पैक में नई व्यवस्था के तहत नए चैनल चुनना चाहता है तो मौजूदा पैक का बकाया पैसा उसके वॉलेट में जमा हो जाएगा और अगले रिचार्ज में उसका समायोजन किया जाएगा। शर्मा ने इस पर जोर दिया कि लंबी अवधि के प्रीपेड पैक समाप्त होने तक जारी रखने या इसे छोड़कर नई व्यवस्था के तहत चैनल चुनने के बारे में ग्र्राहकों की ही मर्जी चलेगी।

चैनल प्राइसिंग के लिए एक फरवरी से नई व्यवस्था लागू होगी। इसके तहत ग्र्राहकों को सिर्फ उन चैनलों का शुल्क देना होगा जो वे देखना चाहते हैं।

इस तरह डीटीएच और केबल ऑपरेटरों को ब्रॉडकास्टरों द्वारा तय मासिक किराए पर चैनल के सिग्नल देने होंगे। ब्रॉडकास्टरों का हर चैनल का अलग मूल्य तय करना होगा। वे चाहें तो चैनलों के पैक बनाकर भी पेश कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *