जबलपुरमध्यप्रदेशहाेम

आलीशान ढाबा के बीच में कार सवार बदमाशों ने जमकर आतंक मचाया

घटना में ट्रांसपोर्ट व्यवसायी को गंभीर चोटें आई हैं, जिसका निजी अस्पताल में उपचार जारी है।

Advertisements
जबलपुर। तिलवारा थानांतर्गत बायपास से आलीशान ढाबा के बीच में कार सवार बदमाशों ने जमकर आतंक मचाया। हथियारों से लैस बदमाशों ने पहले तो कार से एक ट्रांसपोर्ट व्यवसायी का पीछा किया फिर उसे रोककर बेसबॉल के डंडों, धारदार हथियार और रॉड से हमला कर दिया।
घटना में ट्रांसपोर्ट व्यवसायी को गंभीर चोटें आई हैं, जिसका निजी अस्पताल में उपचार जारी है। पुलिस ने हत्या के प्रयास का प्रकरण दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास शुरु कर दिए हैं।
 पुलिस ने बताया कि संजीवनी नगर निवासी सपन उर्फ मधु जैन ने कुछ समय पूर्व रामरुद्र यादव और उसके ड्राइवरों पर रमनगरा के पास यार्ड में खड़े हाइवा को जबरदस्ती ले जाने का आरोप लगाते हुए लूट का प्रकरण दर्ज कराया था।
इसी बात को लेकर रामरुद्र यादव के परिजन संजू यादव, अज्जू यादव, हिमांशु ठाकुर व अन्य मधु से रंजिश रख उस पर गवाही पलटने का दबाव बना रहे थे।

मधु ने जब गवाही पलटने से मना किया तो संजू, अज्जू, हिमांशु व अन्य ने बायपास से आलीशाल ढाबा तक कार से मधु का पीछा किया फिर उसे रोककर बेरहमी से पीटने लगे।

यह भी पढ़ें-  EPFO News Alert: EPFO का कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, बेरोजगार होने पर मिलेगी आर्थिक मदद, ऐसे करना होगा आवेदन

घटना में मधु के पूरे शरीर में गंभीर चोटें आईं और वह लहुलुहान होकर वहीं गिर गया। जिसे मृत समझकर बदमाश वहां से भाग निकले। बताया जा रहा है कि मधु के शरीर से बहुत ज्यादा खून बह गया है और उसकी हालत बेहद नाजुक बनी हुई है।

वारदात के पीछेे यह वजह बताई जा रही  

गौरतलब है कि  आदिनाथ ट्रांसपोर्ट के मालिक सपन उर्फ मधु जैन की बहन के नाम पर रजिस्टर्ड हाईवा  एमपी 20 एचबी 6138 और एमपी 20 एचबी 6423 को रामरुद्र यादव उसके किराए पर मांग रहा था।
मना करने पर 30 अप्रैल को रामरुद्र यादव सपन के मामा प्रमोद जैन के रमनगरा वाटर फिल्टर प्लांट के पास स्थित यार्ड पहुंचा और चौकीदार राकेश केवट और उसकी पत्नी एकता केवट को डरा धमका ड्राइवर गोलू और दुजर्न को दोनों हाइवा लेकर वहां से रवाना कर दिया।
बता दें कि रामरूद्र यादव  पिछले 10 वर्षो से अपराध करते चला आ रहा है, जिसके विरुद्ध 1 दर्जन से अधिक हत्या, हत्या का प्रयास, फिरौती के लिये अपहरण, अवैध वसूली , आर्म्स एक्ट के अपराध पंजीबद्ध होकर न्यायालय मे विचाराधीन है।
आरोपी की आपराधिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने के लिए पूर्व में जिला बदर भी किया गया है। हाइवा लूटने के प्रकरण के बाद रामरुद्र यादव के खिलाफ एनएसए की कार्रवाई भी की गई है।

यह भी पढ़ें-  TMKOC : दया के बाद जेठालाल की पसंदीदा बबिता जी भी छोड़ सकती है शो ! ये है कारण
Show More
Back to top button