मध्यप्रदेशहाेम

बिजली घर के बाहर खटिया बिछाकर लेट गए ऊर्जा मंत्री, कहा-लाइट आएगी तभी उठूंगा

बिजली घर के बाहर खटिया बिछाकर लेट गए ऊर्जा मंत्री, कहा-लाइट आएगी तभी उठूंगा

Advertisements

ग्वालियर। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह ताेमर आज सुबह चार बजे भाेपाल से ग्वालियर लाैटे थे। यहां पहुंचकर उन्हें पता चला कि सागरताल स्थित हरिहर कालाेनी में कई घंटाे से बिजली गुल है। जानकारी लगते ही मंत्री सीधे हरिहर कालाेनी पहुंच गए। यहां पर लाेगाें से चर्चा के बाद वह बिजली घर पहुंचे व खटिया बिछाकर लेट गए। मामले की जानकारी लगते ही बिजली कंपनी के वरिष्ठ अधिकारी भी माैके पर पहुंचे। अफसराें ने मंत्री काे उठाने का प्रयास किया ताे उन्हाेंने दाे टूक शब्दाें में समझा दिया कि जब तक क्षेत्र में बिजली सप्लाई बहाल नहीं हाेती है वह खटिया से नहीं उठेंगे। मंत्री के तीखे तेवर देख अफसराें के भी पसीने छूट गए।

यह भी पढ़ें-  लोकसभा एवं विधानसभा उपचुनाव हेतु भाजपा ने दायित्व सौंपे

दरअसल विद्युत केबल में फॉल्ट के कारण सागरताल स्थित हरिहर कालाेनी में पचास घराें में रात से बिजली गुल थी। लाेगाें ने बिजली घर भी फाेन किए, लेकिन काेई सुनवाई नहीं हुई। इसके बाद लाेगाें ने इसकी जानकारी ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह ताेमर काे दी। मंत्री भाेपाल से लाैटकर रेलवे स्टेशन पर उतरे ही थे कि उनकाे क्षेत्र में बिजली समस्या की जानकारी मिली। इसके बाद वह घर जाने की जगह सीधे हरिहर कालाेनी पहुंच गए। यहां पर स्थानीय निवासियाें से चर्चा के बाद बिजली घर पहुंचे और कर्मचारियाें काे तत्काल फॉल्ट हुई केबिल काे बदलने के निर्देश दिए गए। कर्मचारियाें काे लगा कि मंत्री निर्देश देकर चले जाएंगे, लेकिन जब मंत्री वहीं खटिया बिछाकर लेट गए ताे कर्मचारियाें के हाेश उड़ गए। अधिकारियाें काे जब यह खबर मिली ताे वह भी बिजली घर पहुंचे। यहां पर मंत्री ने स्पष्ट कहा कि जनता बिजली समस्या से परेशान है ताे मैं घर पर कैसे चैन से साे सकता हूं। अब जब तक लाइट नहीं आएगी वह खटिया से नहीं उठेंगे।

यह भी पढ़ें-  EPFO Latest News: प्राइवेट कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, PF खाते में जल्द आने वाली है मोटी रकम

 

बिजली घर का किया निरीक्षणः ऊर्जा मंत्री ने गुरुवार की सुबह शर्मा फार्म स्थित बिजली घर का निरीक्षण किया। यहां पर ट्रिपिंग, फॉल्ट सहित अन्य तमाम मुद्दाेंं पर चर्चा की, साथ ही आउट साेर्स कर्मचारियाें के वेतन की भी जानकारी ली।

Show More
Back to top button