MP News शिक्षा विभाग के दो बड़े अधिकारियों के अलग अलग आदेश से मोहकमा पशोपेश में

Advertisements


जबलपुर। लोक शिक्षण संचालनालय कि कमिश्नर जयश्री कियावत और ज्वाइंट डायरेक्टर राजेश तिवारी के आदेश एक दूसरे का विरोध कर रहे हैं। स्कूल शिक्षा विभाग के तहत हाई स्कूल एवं हायर सेकेंडरी स्कूलों के प्राचार्य पसोपेश में है किसके आदेश का पालन करें और किस का उल्लंघन। मामला दसवीं एवं बारहवीं की प्री बोर्ड परीक्षाओं का है। कमिश्नर का आदेश है कि परीक्षाओं का आयोजन किया जाए जबकि ट्रैक्टर ने आदेश दिया है कि परीक्षाओं का आयोजन नहीं किया जाए।

डीपीआई कमिश्नर और संभागीय संयुक्त संचालक के आदेशों के कारण प्राचार्य उलझन में हैं और इस वजह से परीक्षा के ऐन मौके पर स्कूलों का शैक्षणिक कार्य भी प्रभावित हो रहा है। प्राचार्यों का कहना है कि डीपीआई कमिश्नर के सख्त आदेश हैं कि दो प्री बोर्ड परीक्षाएं कराना है तो वहीं संयुक्त संचालक ने भी निर्देश दिए हैं कि प्री बोर्ड परीक्षाओं के पेपर रख लिए जाएं, परीक्षा न कराई जाए। परीक्षा के स्थान पर स्कूलों में अध्यापन कार्य कराया जाए।

11वीं में प्रवेश में काम आएंगे प्री बोर्ड के अंक

बताया जा रहा है कि कक्षा 10वीं में अध्यनरत विद्यार्थी बोर्ड परीक्षा में पास होता है तो उसे 11वीं में प्रवेश के समय प्री बोर्ड परीक्षाओं के अंक जरूरी है। इन्हीं अंकों के आधार पर उसे प्रवेश मिलेगा परंतु जब जबलपुर संभाग में यह परीक्षा नहीं हो रही है इससे बच्चों का भविष्य दांव पर है।

यदि किसी ने परीक्षा नहीं कराई तो कार्रवाई होगी: कमिश्नर

दो प्री-बोर्ड परीक्षाएं आयोजित कराने के निर्देश दिए गए हैं। अगर कोई भी जिला परीक्षाएं आयोजित नहीं कराता है तो निश्चित रूप से अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी। जबलपुर के संयुक्त संचालक ने ऐसा किया है तो जवाब-तलब किया जाएगा।
-जयश्री कियावत, कमिश्नर, डीपीआई

कमिश्नर से सहमति मिल गई है परीक्षाएं नहीं होंगी: ज्वाइंट डायरेक्टर

कमिश्नर से सहमति लेने के बाद संभाग में दूसरी प्री बोर्ड परीक्षाएं आयोजित नहीं कराई जा रही हैं। इसके स्थान पर अध्यापन कार्य कराने के निर्देश प्राचार्यों को दिए गए हैं।
-राजेश तिवारी, संयुक्त संचालक, जबलपुर संभाग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Notifications    OK No thanks