मध्यप्रदेशहाेम

बिजली मंत्री प्रद्युम्न सिंह ने खम्बे पर चढ़कर की सफाई, अब विवाद शुरू

बिजली के खंबे पर चढ़कर उसकी सफाई करना बिजली मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के लिए मुसीबत बन गया है।

Advertisements

भोपाल। बिजली के खंबे पर चढ़कर उसकी सफाई करना बिजली मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के लिए मुसीबत बन गया है। अब विद्युत विभाग के लोग ही उनकी कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़े कर रहे हैं और इसे नियमों के खिलाफ बता रहे हैं।

ग्वालियर में उर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर व्यवस्थाओं का जायजा लेने निकले थे तो उन्हें एक बिजली के खंभे पर चिड़िया के घोसले समेत काफी कचरा दिखाई दिया। अधिकारियों ने बताया कि इस स्थान पर वर्षा के पूर्व मेंटेनेंस का काम हो चुका है। बावजूद इसके कचरा देखकर मंत्री जी भड़क गए और अधिकारियों को जमकर खरी-खोटी सुनाई कि यह कैसी सफाई व्यवस्था है।

यह भी पढ़ें-  TMKOC : दया के बाद जेठालाल की पसंदीदा बबिता जी भी छोड़ सकती है शो ! ये है कारण

 

आनन-फानन में मंत्री जी ने सीढ़ी मंगाई और चढ़ गए खंबे के ऊपर। हालांकि मंत्री जी को ही याद नहीं रहा कि केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण विद्युत अधिनियम 2003 की अध्याय 2 के भाग 3 के उपनियम 3 में ऐसा करना सरासर गलत है। इसमें साफ लिखा है कि खंबे पर वही व्यक्ति चढ़ेगा जिसके पास योग्यता का प्रमाण पत्र अथवा यथोचित सरकार द्वारा जारी इलेक्ट्रिकल वर्क परमिट हो, उसका नाम उप नियम दो में निर्दिष्ट रजिस्टर में प्रवेश किया गया हो। लेकिन अक्सर सुर्खियां बटोरने के चक्कर में ऐसे काम करने वाले मंत्री जी को शायद यह नियम याद नहीं थे।

अब विभाग के अधिकारी-कर्मचारी ही उन्हें यह नियम याद दिला रहे हैं। विद्युत विभाग के यूनाइटेड फोरम के अध्यक्ष वीकेएस परिहार ने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि ‘मंत्री जी गलतियां तो सभी देखते हैं मगर उन गलतियों के पीछे का कारण निवारण कुछ ही लोग बन पाते हैं। कृपया सच्चाई से रूबरू भी हो कि विद्युत विभाग कर्मचारियों की किस कदर कमी से जूझ रहा है और उसके पास केवल 30% कर्मचारियों का अमला है। माननीय मंत्री जी से अनुरोध है कि कर्मचारियों की कमी को पूरा करने का कष्ट करें।’ साथ ही मंत्री जी को चेताया गया है कि उनके द्वारा खंबे पर चढ़कर किया गया कार्य CEA के द्वारा निर्धारित नियमों के खिलाफ है।

Show More
Back to top button