MADHYAPRADESH

सिंधिया को दलित विरोधी बताकर हंगामा, 3 बार कार्यवाही स्थगित

भोपाल। अशोक नगर में ट्रॉमा सेंटर को कथित तौर पर गंगाजल से धुलवाने का आरोप लगाकर सोमवार को विधानसभा में शोर-शराबा हुआ। भाजपा विधायक और मंत्रियों ने सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को दलित विरोधी करार देते हुए कांग्रेस से माफी मांगने की मांग की।
उधर, मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए इसे मुद्दों से ध्यान हटाने सरकार का षड्यंत्र करार दिया। शोर-शराबा इतना हुआ कि अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा को तीन बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी।
प्रश्नकाल के दौरान भाजपा के रामेश्वर शर्मा ने इस मुद्दे को उठाते हुए कहा कि गोपीलाल जाटव हमारे अशोक नगर से विधायक हैं। उन्होंने वहां ट्रॉमा सेंटर का उद्घाटन किया। कांग्रेस के सांसद ने उसे धुलवाया। ये दलितों का घोर अपमान है।
वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, उमाशंकर गुप्ता, विश्वास सारंग और लाल सिंह आर्य ने कहा कि इन्हें माफी मांगनी चाहिए। भाजपा विधायक और मंत्रियों के आरोपों पर नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, डॉ. गोविंद सिंह, लाखन सिंह सहित अन्य सदस्यों ने सिंधिया का बचाव करते हुए कहा कि ऐसा कुछ नहीं हुआ है।
रातभर नींद नहीं आई: लालसिंह आर्य
अनुसूचित जाति कल्याण राज्यमंत्री लालसिंह आर्य ने कहा कि जब से ये घटना सुनी है रात को नींद नहीं आई। पूरे मध्यप्रदेश से फोन आ रहे हैं। सिंधिया के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया जाए।
मायावती के जिक्र पर नहीं दिया जवाब
सत्तापक्ष के लोग बार-बार ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम लेने लगे तो अजय सिंह ने कहा कि आपके लोगों ने राज्यसभा में मायावती को बोलने नहीं दिया। वे हिंदुस्तान में दलित वर्ग की सबसे बड़ी नेता हैं।
मुझे आपकी सीट पर बैठने में गर्व है: सिंह
सिंधिया के ट्रॉमा सेंट्रर को धुलवाने को अनुसूचित जाति की अस्मिता से जोड़ते हुए डॉ. गौरीशंकर शेजवार ने कहा कि मैं नेता प्रतिपक्ष की हैसियत से उस कुर्सी पर बैठता था, क्या उसे गंगाजल से धुलवाएंगे। इस पर नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि मुझे आपकी कुर्सी पर बैठने में गर्व है।
सिंधिया जी को यहां बुलाएं और माफी मंगवाएं: शर्मा
विधानसभा में दलित अपमान का मुद्दा उठाने वाले रामेश्वर शर्मा ने कहा कि अनुसूचित जाति के व्यक्ति और विधायक का अपमान होगा। गोपीलाल जाटव नहीं आए। उन्हें सदमा न लग जाए। उन्होंने मांग रखी कि ज्योतिरादित्य सिंधिया को सदन में बुलाया जाए। कटघरे में खड़ा कर उनसे माफी मंगवाई जाए। मैं निंदा प्रस्ताव रखता हूं।

यह भी पढ़ें-  Katni Stone Art: शिल्पकारों द्वारा उकेरी गई ऐतिहासिक कलाकृतियां अब प्रदेश की राजधानी की शोभा बढ़ा रही
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button