सावन का चौथा सोमवार है खास, शिव शक्ति से पाएं गाड़ी-बंगले का वरदान

Advertisements
धर्म डेस्क। सोमवार 31 जुलाई 2017 को सावन का चौथा सोमवार पड़ रहा है। इसके साथ-साथ श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी भी है। इस दिन सावन माह में आने वाली दुर्गा अष्टमी भी मनाई जाएगी। जिससे ये सोमवार असाधारण बन जाता है। इस सोमवार पर भक्तों को भोले बाबा के साथ-साथ मां गौरी की भी असीम कृपा प्राप्त होगी। ज्योतिषशास्त्र अनुसार इस दिन सूर्योदय से लेकर दिन 2:29 तक शुभ नाम का विशिष्ट योग बन रहा है। इसके बाद 2:30 बजे से शुक्ल नाम का खास योग भी बन रहा है। जो पूजा-पाठ अनुष्ठान के लिए खास माना जाता है। सुबह 9:46 मिनट तक शेर की भांति शक्तिशाली बाल्व नाम का करण रहेगा। इसके बाद चीते के समान शक्तिशाली बाल्व नाम का करण रहेगा। ये दोनों करण विजय के सूचक हैं।

इस विशिष्ट पर्व पर शिव और शक्ति का खास पूजन करने से शत्रुओं से छुटकारा मिल सकता है तथा गाड़ी-बंगले की इच्छा भी पूरी हो सकती है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार चन्द्रमा कुण्डली के चौथे भाव का प्रतिनिधित्व करता है। चौथा भाव गाड़ी-बंगले और माता का प्रतीक माना जाता है। जिस किसी व्यक्ति की कुण्डली में चौथा भाव कमजोर है या बलहीन है, उन लोगों को विशेष पूजन से शीघ्र अति शीघ्र गाड़ी-बंगले की प्राप्ति हो सकती है।

कैसे करें पूजन
सोमवार को उस शिवालय में जाएं जहां सफेद रंग का शिवलिंग स्थापित हो। वहां जाकर शिव गौरी और चन्द्रमा का पूजन करें। सर्वप्रथम शिवलिंग और गौरी की प्रतिमा पर जल चढ़ाएं। दूध में शहद मिलाकर शिव और गौरी का अभिषेक करें। शिवलिंग पर बिल्व पत्र और गौरी पर सफेद रंग के फूल अर्पित करें। फिर शिवलिंग पर चंदन से त्रिपुण्ड बनाएं। देवी गौरी पर चंदन से लेप लगाएं। दूध से बना कोई भी मिष्ठान शिव और गौरी को अर्पित करके बांट दें। तथा इस मंत्र का जाप करें।

मंत्र: ह्रीं गौरीशंकराय नमः ह्रीं॥

इस मंत्र का उच्चारण करते हुए चांदी का एक चौकोर टुकड़ा गौरी और शिवलिंग पर स्पर्श करवाकर किसी पारदर्शी कांच की बोतल में डालकर गंगा जल भरकर घर की उत्तर पश्चिम दिशा में छिपा कर रख दें। अगले सावन तक आपके बंगले व गाड़ी की इच्छा जरूर पूरी होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Notifications    OK No thanks