ज्ञानराष्ट्रीयहाेम

7th Central Pay Commission : इन Group के अफसरों के प्रमोशन पर Covid की मार, इस तारीख तक टला प्रोसेस

कर्मचारी नेताओं की मानें तो Lockdown के दौरान दफ्तर में रोटेशन शिफ्ट चल रही है। इस कारण अधिकारी अप्रेजल प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाए हैं। सभी मंत्रालयों को कोविड-19 से निपटने के लिए कहा गया है

Advertisements

नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। Central Government employees के Appraisal पर Covid की मार पड़ी है। Coronavirus Mahamari के कारण Annual Appraisal FY 2020-21 आगे बढ़ गया है। DoPT के आदेश के मुताबिक CSS, CSSS और CSCS काडर के Group A, B और C की Annual Performance Assessment Report (APAR) जमा करने की तारीख 31 दिसंबर 2021 तक आगे बढ़ा दी गई है। ऐसा Covid Mahamari के कारण हुआ है। आदेश के मुताबिक जो लोग 28 फरवरी 2021 को रिटायर हो चुके हैं, उनको इसका फायदा मिलेगा।

बता दें कि सरकार ने इससे पहले भी 2019-20 के लिए केंद्रीय कर्मचारियों के APAR की मियाद को बढ़ा दिया था। इसे बढ़ाकर मार्च 2021 तक कर दिया गया था. पहले इसे 31 दिसंबर 2020 तक पूरा करना था। डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल ट्रेनिंग (DoPT) के ऑर्डर के मुताबिक, मौजूदा स्थितियों को देखते हुए APAR को पूरा करने की मियाद बढ़ा दी गई है।

यह भी पढ़ें-  बिजली घर के बाहर खटिया बिछाकर लेट गए ऊर्जा मंत्री, कहा-लाइट आएगी तभी उठूंगा

पहले महंगाई भत्‍ते को Freeze किया था

AG ऑफिस ब्रदरहुड (प्रयागराज) के पूर्व अध्‍यक्ष हरिशंकर तिवारी ने Jagran.com को बताया कि पहले महंगाई भत्‍ते को Freeze किया गया। इसके बाद उत्‍तर प्रदेश में कई तरह के भत्‍ते भी खत्‍म किए गए। हालांकि APAR आगे बढ़ने से नुकसान नहीं है। यह Arrear के तौर पर जिस तारीख से ड्यू होगा, उस दिन से ही Entitlement हो जाएगा। APAR डेडलाइन आगे Corona mahamari के कारण बढ़ाई गई है। ऐसा ही मामला Provisional Pension को लेकर है, यानि जो लोग रिटायर हो रहे हैं, उनको दिक्‍कत न हो। किसी सरकारी कर्मचारी के रिटायर होने पर उसे प्रोविजिनल पेंशन मिलती है। यह पेंशन उसकी Last drawn salary पर बनती है। वास्‍तविक Pension और Provisional pension की रकम में खास अंतर नहीं होता है।

इंक्रीमेंट प्रोसेस का यह पहला कदम

आदेश के मुताबिक, सभी कर्मचारियों को खाली फॉर्म या ऑनलाइन फॉर्म लेने का काम पूरा करना था। केंद्रीय कर्मचारियों के लिए इंक्रीमेंट प्रोसेस का यह पहला कदम होता है। लॉकडाउन के कारण यह काम पूरा नहीं हुआ है। इसलिए सरकार ने मियाद को बढ़ाकर 31 दिसंबर कर दिया है।

31 दिसंबर तक टला

रिपोर्टिंग ऑफिसर को 30 जून तक Self Appraisal जमा करना होता है। इसके बाद 31 दिसंबर तक यह अप्रेजल की प्रक्रिया पूरी करनी है। कर्मचारी नेताओं की मानें तो Lockdown के दौरान दफ्तर में रोटेशन शिफ्ट चल रही है। इस कारण अधिकारी अप्रेजल प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाए हैं। सभी मंत्रालयों को कोविड-19 से निपटने के लिए कहा गया है और अपने कर्मचारियों की हिफाजत करने की ताकीद की गई है। इसलिए परफॉर्मेंस रिव्यू में देरी हो रही है।

यह भी पढ़ें-  Twitter इंडिया के MD को बड़ी राहत, कोर्ट ने कहा- थाने जाने की जरुरत नहीं, ऑनलाइन पूछताछ करे UP पुलिस
Show More
Back to top button