ज्ञानराष्ट्रीयहाेम

कोविड के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी का नहीं होगा इस्तेमाल, ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल से हटाने का फैसला

ICMR द्वारा की गई स्टडी में पता चला है कि प्लाज्मा थेरेपी मरीजों को फायदा पहुंचाने में नाकामयाब रही है।

Advertisements

AIIMS/ICMR कोविड19 नेशनल टास्क फोर्स/ज्वाइंट मॉनिटरिंग ग्रुप और स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोरोना रोगियों के मैनेजमेंट के लिए क्लिनिकल गाइडलाइन्स में बदलाव किया है और कोविड ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल में शामिल प्लाज्मा थेरेपी को हटा दिया है।

ICMR डायरेक्टर जनरल बलराम भार्गव ने कुछ दिनों पहले ही कहा था कि कोरोना के इलाज की गाइडलाइंस में से प्लाज्मा थेरेपी को हटाए जाने को लेकर विचार चल रहा है। ICMR की नेशनल टास्क फोर्स इस पर गंभीरता से विचार कर रही है।

यह भी पढ़ें-  Madhya Pradesh BJP: भोपाल में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक हुई शुरू

मिली जानकारी के मुताबिक ICMR द्वारा की गई स्टडी में पता चला है कि प्लाज्मा थेरेपी मरीजों को फायदा पहुंचाने में नाकामयाब रही है। ये स्टडी देश के 39 अस्पतालों में की गई थी।

अप्रैल में केंद्र सरकार ने भी कहा था कि प्लाज्मा थेरेपी मरीज की जिंदगी को मुश्किल में भी डाल सकती है। उस वक्त इस थेरेपी को एक्सपेरिमेंटल बताया गया था। स्वास्थ्य मंत्रालय में ज्वाइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने तो इस थेरेपी को गैरकानूनी तक बताया था। उन्होंने कहा था कि जब तक ICMR की निरीक्षण टीम से संबंधित कोई व्यक्ति इलाज न देख रहा हो तब तक इस थेरेपी का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें-  Twitter इंडिया के MD को बड़ी राहत, कोर्ट ने कहा- थाने जाने की जरुरत नहीं, ऑनलाइन पूछताछ करे UP पुलिस
Show More
Back to top button