कटनीहाेम

कटनी और विजयराघवगढ़ में शीघ्र ही स्थापित होंगे ऑक्सीजन प्लान्ट – सांसद वीडी शर्मा, वर्चुअल माध्यम से आयोजित हुई आपदा प्रबंधन समूह की बैठक

Advertisements

कटनी। कोरोना हारेगा, कटनी जीतेगा। हमें इस सूत्र वाक्य को सार्थक करना है। इस दिशा में शासन-प्रशासन मिलकर काम कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना की इस लड़ाई में हमारे सरपंच, सचिव, जीआरएस यही हमारे ब्राण्ड एम्बेस्डर हैं। कटनी के लिये एक ऑक्सीजन प्लान्ट और डीआरडीओ द्वारा विजयराघवगढ़ के लिये भी एक ऑकसीजन प्लान्ट स्वीकृत हुआ है। ये ऑक्सीजन प्लान्ट शीघ्र ही स्थापित होंगे। यह बात भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं सांसद वी.डी. शर्मा ने शनिवार को वर्चुअल माध्यम आयोजित जिला, विकासखण्ड एवं ग्रामस्तर पर गठित आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में कही।

सांसद श्री शर्मा ने कहा कि यह समय सबके सहयोग से कोरोना से इस जंग को जीतने का है। सभी लोग मिलकर इस लड़ाई को लड़ें। हम अपने घर को कोरोना मुक्त बनायें। इससे ही हमारा मोहल्ला और इसी उद्देश्य के साथ कार्य करने पर हमारा गांव कोरोना मुक्त बनेगा। उन्होने जनता कर्फ्यू का स्वयं अनुशासन के साथ पालन करने की बात पर भी जोर दिया।

वर्चुअल बैठक में कोविड-19 के लिये जिले के लिये नियुक्त किये गये प्रभारी एवं प्रदेश के श्रम एवं खनिज साधन मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह, विधायक संजय सत्येंद्र पाठक, विधायक संदीप जायसवाल, विधायक प्रणय पांडेय, कलेक्टर प्रियंक मिश्रा, पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी सहित अन्य समिति के अशासकीय एवं शासकीय सदस्य भी शामिल हुये।

वर्चुअल मीट में सांसद श्री शर्मा ने जिला प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों के सहयोग से जिले में पॉजीटिविटी रेट कम होने पर सक्रियता से किये गये कार्य की सराहना की। उन्होने कहा कि लेकिन हमें अभी भी सतर्क रहना है और मुस्तैदी से काम करना है। हम सभी मानवता की सेवा में लगे हुये हैं। ग्रामीण क्षेत्रों की स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त करने की दिशा में प्रशासन काम करे।

ग्रामीण क्षेत्रों में फोकस करने के निर्देश वर्चुअल मीट में सांसद श्री शर्मा ने दिये। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री के निर्देशों के अनुसार गांव स्तर पर भी क्राईसिस मैनेजमेन्ट की समिति बनाई गई है। जिले से लेकर गांव तक की समिति के सभी सदस्यों को सकारात्मक रुप से सक्रियता से काम करना होगा। यह अच्छी खबर है कि हमारी गांवस्तर की टीमें अपने गांव को कोरोना मुक्त बनाने में जुटी हुई हैं। कई गांवों ने स्वेच्छा से जनता कर्फ्यू का पालन किया है। श्री शर्मा ने कहा कि यह जान लें कि जब हमारे गांव कोरोना मुक्त होंगे, तभी कटनी कोरोना मुक्त होगा और तब ही प्रदेश भी कोरोना मुक्त हो पायेगा।

राज्य शासन द्वारा कोविड में अपनों को खो चुके लोगों के लिये लिये गये महत्वपूर्ण निर्णयों, आयुष्मान भारत के तहत उपचार की योजना, पात्रों को निःशुल्क राशन वितरण, दवाई वितरण की जानकारी, जनजागरुकता के साथ गांव-गांव तक पहुंचे। किल कोरोना अभियान का प्रभावी क्रियान्वयन जिले में हो, यह सुनिश्चित करें।

कोविड-19 वैक्सीनेशन के प्रति भी जनजागरुकता लाने के लिये अवेयरनेस कैम्पेन चलाने के निर्देश सांसद श्री शर्मा ने दिये। उन्होने कहा कि हमने वैक्सीनेशन को प्रमोट करने के लिये जागरुकता रथ भी चलाया है। वैक्सीनेशन के लाभ की जानकारी जन-जन तक पहुंचायें।

वर्चुअल मीट को मंत्री श्री सिंह ने भी संबोधित किया। उन्होने कहा कि जिला प्रशासन की टीम ने बेहतर काम किया है। अब हमारी क्राईसिस मैनेजमेन्ट टीम के सामने ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना नियंत्रण का बड़ा चैलेन्ज है। हमें अपने ग्रामीण क्षेत्रों के स्वास्थ्य केन्द्रों को मजबूत करना है। ब्लैक फंगस के उपचार के तैयारियों में भी हम जुटें। जैसा कि विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना की थर्ड वेब बच्चों के लिये नुकसानदायक होगी। इसलिये हमें अभी से अपनी तैयारियां पूरी करनी होंगी। मंत्री श्री सिंह ने वैक्सीनेशन के कार्य में सबको जुटकर कार्य करने के निर्देश दिये।

वर्चुअल मीट में विधायक श्री पाठक, विधायक श्री जायसवाल, विधायक श्री पाण्डेय ने भी अपने सुझाव दिये। साथ ही कोरोना की रोकथाम को लेकर किये जा रहे कार्यों की जानकारी भी दी। जिला पंचायत उपाध्यक्ष अशोक विश्वकर्मा, निर्वतमान महापौर शशांक श्रीवास्तव, भाजपा जिलाध्यक्ष रामरतन पायल, पूर्व अध्यक्ष पीताम्बर टोपनानी ने भी वर्चुअल मीट में अपनी बात रखी।

वर्चुअल मीट के प्रारंभ में कलेक्टर श्री मिश्रा ने जिला प्रशासन द्वारा कोरोना नियंत्रण को लेकर किये जा रहे कार्यों के विषय में जानकारी दी। उन्होने बताया कि जिले में वर्तमान में ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है। सांसद श्री शर्मा के मार्गदर्शन में रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता बनी रही है। ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर मशीन उपलब्ध कराने के लिये उन्होने सांसद श्री शर्मा का आभार व्यक्त किया। साथ ही ग्रामीण क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों को चिकित्सीय रुप से सशक्त बनाने की दिशा में किये जा रहे कार्यों की जानकारी भी उन्होने दी।

ई-मीट में जिला पंचायत की प्रधान ममता पटेल, सभी जनपदों की प्रधान, ग्राम पंचायतों के प्रधान, सीईओ जिला पंचायत जगदीश चन्द्र गोमे, अपर कलेक्टर रोहित सिसोनिया सहित सभी ग्राम पंचायतों के सचिव, जीआरएस एवं अन्य विभागों के अधिकारी भी शामिल हुये।

यह भी पढ़ें-  मप्र के 90 हजार सरकारी स्कूलों का बैंक खाता 30 जून से होगा जीरो बैलेंस
Show More
Back to top button