राष्ट्रीयविदेशहाेम

भारत को कल मिलेगी रूस की Sputnik V वैक्‍सीन की दूसरी खेप, टीकाकरण में भी मिलेगी मदद

Sputnik V वैक्‍सीन की पहली खेप को इस माह की शुरुआत में रूस से भेजा गया था। रशियन सोवरन वैल्‍थ फंड के प्रमुख ने उम्‍मीद जताई थी कि वैक्‍सीन से भारत में चल रहे टीकाकरण को और अधिक मजबूती मिलेगी। उन्‍होंने ये भी उम्‍मीद जताई थी

Advertisements

नई दिल्‍ली। भारत में Sputnik V वैक्‍सीन की दूसरी खेप शुक्रवार को भारत पहुंच जाएगी। मास्‍को में मौजूद भारतीय राजदूत बाला वैंकटेश वर्मा के मुताबिक रूस द्वारा विकसित की गई इस वैक्‍सीन की करीब डेढ़ से दो लाख खुराक की खेप कल भारत को मिल जाएंगी। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने इस वैक्‍सीन को इंपोर्ट करने के लिए डॉक्‍टर रेडडी लैब को मंजूरी दी है।

भारत ने इसको इमरजेंसी के तौर पर इस्‍तेमाल की इजाजत पहले ही दे दी है। माना जा रहा है कि रूस की ये वैक्‍सीन भारत में चल रहे टीकाकरण के तीसरे फेज में काफी मदद करेगी। माना ये भी जा रहा है कि इससे कोरोना संक्रमण को रोकने में मदद मिल सकेगी।

यह भी पढ़ें-  BJP के ई-चिंतन शिविर में जमकर बोले ज्योतिरादित्य सिंधिया, कार्यकर्ताओं को दिया यूं प्रशिक्षण

आपको यहां पर ये भी बता दें कि Sputnik V भारत सरकार के द्वारा तीसरी ऐसी वैक्‍सीन है जिसको इस्‍तेमाल की इजाजत दी गई है। इससे पहले सरकार ने कोविशील्‍ड और कोवैक्‍सीन को इस्‍तेमाल की इजाजत दी थी। भारत बायोटेक की कोविशील्‍ड को सीरम इंस्टिट्यूट में तैयार किया गया है।

गौरतलब है कि Sputnik V वैक्‍सीन की पहली खेप को इस माह की शुरुआत में रूस से भेजा गया था। रशियन सोवरन वैल्‍थ फंड के प्रमुख ने उम्‍मीद जताई थी कि वैक्‍सीन से भारत में चल रहे टीकाकरण को और अधिक मजबूती मिलेगी। उन्‍होंने ये भी उम्‍मीद जताई थी कि ये भारत में बढ़ रही संक्रमण की रफ्तार पर रोक लगाने में कारगर साबित होगी।

आपको बता दें कि भारत फरवरी से कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का सामना कर रहा है। पिछले सप्‍ताह लगातार चार दिनों तक देश में 4 लाख से अधिक मामले सामने आए थे। इसके बाद लगातार दो दिनों तक मामलों में गिरावट देखी गई और ये 4 लाख से कम रहे थे।

इस आधार पर डॉक्‍टर मान रहे हैं कि देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का सर्वोच्‍च स्‍तर अब जा चुका है। विशेषज्ञ मान रहे हैं कि अब देश में कोरोना के नए मामलों में लगातार गिरावट आएगी, हालांकि ऐसा होने की रफ्तार कम होगी।

Show More
Back to top button