HOMEराष्ट्रीय

बड़ी दुर्घटना:चलती बसों पर टूटा पहाड़, 46 की मौत, कई लापता

मंडी. हिमाचल के मंडी जिले में पठानकोट मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग पर पहाड़ दरकने से चपेट में आईं दो बसों में सवार 46 लोगों की मौत हो गई। हादसे में पांच लोग घायल भी हुए हैं। अभी तक 27 शवों की पहचान हो पाई है। कुछ लोगों के अब भी फंसे होने की आशंका है।मृतकों में जम्मू-कश्मीर व पंजाब के लोग भी शामिल हैं। एक महिला ने हादसे में अपने तीन बच्चों को गंवा दिया। भूस्खलन के बाद बाढ़ आने से भारी नुकसान हुआ है।

AD
शनिवार देर रात करीब एक बजे कोटरोपी में अचानक दरकी पहाड़ी के कारण पूरा गांव बह गया है। मलबे की चपेट में हिमाचल पथ परिवहन निगम की दो बसें भी यात्रियों सहित मलबे में दफन हो गई हैं। मनाली से कटड़ा जा रही बस (एचपी-63-5840) में दस लोग सवार थे, इनमें दो लड़कियों की मौत हुई है, जबकि एक लापता है। वहीं चंबा से मनाली जा रही बस (एचपी-73-4423) में 50 लोग सवार थे। इस बस से अभी तक 42 शव बरामद किए जा चुके हैं।
उपायुक्त मंडी संदीप कदम ने इसकी पुष्टि की है। बसें जैसे ही कोटरोपी के पास पहुंचीं तो भूस्खलन की चपेट में आ गईं। मनाली-कटड़ा तथा चंबा-मनाली रूट पर जा रही बसों सहित कुछ वाहन भी मलबे की चपेट में आ गए। चंबा-मनाली रूट की बस सत्तीधार नाले पर बने पुल के साथ बहकर करीब एक किलोमीटर दूर चली गई।
चंबा-मनाली रूट की बस से 15 मिनट तक बचाओ-बचाओ की आवाजें आती रहीं, लेकिन मौके पर उस समय पहुंच पाना संभव नहीं था। बस दस फीट मलबे, चट्टानों व चीड़ के पेड़ों के नीचे दब गई। मलबे की चपेट में आने से दो बाइक सवारों की मौत हुई है।
वहीं मनाली-कटड़ा बस राजमार्ग पर ही मलबे के नीचे दब गई। इस बस में चालक परिचालक सहित दस सवारियां थीं। पांच लोगों व चालक-परिचालक ने भाग कर जान बचाई। दो लड़कियों की मलबे की चपेट में आने से मौत हो गई। एक व्यक्ति लापता है। घायलों को उपचार के लिए जोनल अस्पताल मंडी में भर्ती कराया गया है। एनडीआरएफ की बटालियन व सेना के जवानों ने राहत एवं बचाव कार्य में योगदान दिया। सरकार ने मारे गए लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिह सहित राज्य के कई नेता मौके पर पहुंचे और राहत एवं बचाव कार्य का जायजा लिया।
हेल्पलाइन नंबर जारी
प्रदेश सरकार ने सचिवालय का हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। अन्य राज्यों के लोग मोबाइल नंबर से 1070 तथा राज्य आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के लैंडलाइन नंबर 0177-2629688 से संपर्क कर सकते हैं।
इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि हिमाचल के मंडी जिले में भूस्खलन की घटना से दुख हुआ। मेरी संवेदना पीड़ित परिवारों के साथ है। भगवान से प्रार्थना करता हूं कि घायल जल्द स्वस्थ हों।

AD
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button