राष्ट्रीयहाेम

Full Lockdown in India 24 घंटों में 4,03,738 केस, 4092 मौत, पूरे देश में फुल लॉकडाउन का दबाव बढ़ा

मृतकों का कुल आंकड़ा 2,42,362 पहुंच गई है। अभी 37,36,648 एक्टिव केस हैं। इस बीच, केंद्र सरकार पर राष्ट्रव्यापी सम्पूर्ण लॉकडाउन का दबाव बढ़ रहा है।

Advertisements

Full Lockdown in India: देश में बीते 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 4,03,738 मामले सामने आए हैं और 4,092 मरीजों की मौत हुई है। वहीं इस दौरान 3,86,444 मरीज कोरोना को मात देकर घरों को लौटे हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, भारत में अब तक कोरोना के कुल मरीजों की संख्या 2,22,96,414 हो गई है। इनमें से 1,83,17,404 मरीज स्वस्थ्य हो गए हैं। मृतकों का कुल आंकड़ा 2,42,362 पहुंच गई है। अभी 37,36,648 एक्टिव केस हैं। इस बीच, केंद्र सरकार पर राष्ट्रव्यापी सम्पूर्ण लॉकडाउन का दबाव बढ़ रहा है।

दरअसल, कोरोना की दूसरी लहर सामने आने के बाद लॉकडाउन या कर्फ्यू का फैसला राज्य सरकारें ही ले रही हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में भी कहा कि राज्य ही इस पर फैसला ले, लेकिन दिन ब दिन बिगड़ते हालात के बीच राज्यों की ये सख्तियां नाकाफी साबित हो रही हैं। अब केंद्र सरकार पर दबाव डाला जा रहा है कि वह राष्ट्रव्यापी सख्ती लॉकडाउन का ऐलान करे। देश के कई नामी डॉक्टरों के बाद अब इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने केंद्र सरकार को चिट्ठी लिखी है कि यदि देश को कोरोना से बचाना है तो पूरे देश में लॉकडाउन लगाया जाना चाहिए। टुकड़ों टुकड़ों में राज्यों द्वारा लगाई जा रही पाबंदियों का फायदा नहीं मिल रहा है। बता दें, कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों के नेता भी पूरे देश में लॉकडाउन की वकालत कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें-  Char Dham Yatra Special Train चारधाम यात्रा के लिए IRCTC ने शुरू की स्पेशल ट्रेन, ये है पूरी डिटेल

गुजरात में लाकडाउन करने का इरादा नहीं : रूपाणी

इस बीच, गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी में कहा है कि गुजरात में लोकडाउन करने का कोई इरादा नहीं है। राज्य में आक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं हुई है। गांधीनगर जिले की कलोल तहसील के ओरसिया गांव में “मेरा गांव कोरोना मुक्त गांव” अभियान के तहत ग्रामीणों से संवाद करते हुए मुख्यमंत्री रूपाणी ने गांव में कोरोना महामारी को लेकर की गई व्यवस्थाओं और कोरोना संक्रमितों के बारे में चर्चा की। उन्होंने कहा कि गुजरात में रात्रि कर्फ्यू तथा कोरोना नियंत्रण के लिए जारी केंद्र सरकार व आइसीएमआर की गाइडलाइन का पूरा-पूरा पालन किया जा रहा है। राज्य में ऑक्सीजन की कमी से अभी तक एक भी मौत नहीं हुई है। रूपाणी ने एक बार फिर कहा कि गुजरात में लाकडाउन लागू करने का सरकार का कोई इरादा नहीं है। मार्च 2021 में गुजरात में 41 हजार बेड की व्यवस्था थी जो अब करीब एक लाख तक पहुंच गई है। राज्य में अभी आइसीयू और आक्सीजन से सुविधा वाले 55 हजार बेड मौजूद हैं। राज्य में सरकारी व गैर सरकारी अस्पतालों को पर्याप्त आक्सीजन मिल रही है। रूपाणी ने बताया कि कोरोना की पहली लहर के दौरान गुजरात के अस्पतालों को 250 टन आक्सीजन की जरूरत थी।

Show More
Back to top button