HOME

शरद ने कहा -JDU मेरी पार्टी, बैनर में लिखवाया महागठबंधन जारी है

पटना।

AD

जेडीयू में बागी बन चुके शरद यादव ने अपने विरोधियों पर निशाना साधा है. पटना में अपने गुट के नेताओं के साथ बैठक में बिना नाम लिये विरोधियों पर निशाना साधे. शरद ने इशारों ही इशारे में कहा कि जिसने जेडीयू को बनाया कुछ लोग उसे ही कह रहे हैं कि ये उसका घर नहीं है.

शरद गुट शनिवार को पटना में हो रही जेडीयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक का बहिष्कार कर अलग से अपनी बैठक कर रहा है. पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मैं जेपी के जमाने से ही बिहार घूम रहा हूं लेकिन लोग मेरी मंशा से लेकर घर तक पर सवाल खड़े कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मैं आज आया तो था जेडीयू की कार्यकारिणी में भाग लेने लेकिन वो कहते हैं कि ये पार्टी आपकी है ही नहीं.बिहार में बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने के बाद से ही शरद नीतीश कुमार से नाराज चल रहे हैं. बागियों का नेतृत्व कर रहे शरद के साथ अली अनवर भी पटना पहुंचे हैं. पटना एयरपोर्ट पर समर्थकों ने दोनों नेताओं का जोरदार स्वागत किया.

दोनों नेताओं के बीच अनबन के बाद अब बात असली और नकली जेडीयू को लेकर आ गई है. अब तक जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक शरद गुट की नजर अब पार्टी के सिंबल यानी तीर पर है. शनिवार को पटना में ही होने वाली इस बैठक में राज्यसभा में जदयू के उपनेता रहे अली अनवर अंसारी पार्टी महासचिव पद से हटाए गए अरुण श्रीवास्तव समेत कई बागी चेहरे मौजूद हैं.

जानकारी के मुताबिक नीतीश को उनके घर में टक्कर देने के बाद शरद गुट पार्टी के नाम और चुनाव चिह्न पर दावा करने के लिए जल्द ही चुनाव आयोग का भी रुख करेगा. पटना की सड़कें असली और नकली जेडीयू को लेकर हो रहे वार का पुख्ता प्रमाण दे रहे हैं.

शरद ने मुलायम का जिक्र करते हुए कहा कि पहले नेता जी और अब नीतीश ने जनता परिवार को एक नहीं होने दिया. उन्होंने कहा कि मुझे किसी पद की चिंता और लालच नहीं है क्योंकि मैंने कई लोगों को विधायक और मंत्री बनाया है.

शरद के गुट ने इसके लिये पटना में ही कृष्ण मेमोरियल हॉल को ही चुना है. बैठक में शरद ने अपने सहयोगियों को बगैर किसी का नाम लिये ही अपनी बातें रखने की नसीहत दी. शरद के नेतृत्व में हो रही इस बैठक में पूर्व में एनडीए सरकार का चेहरा रहे कुछ पूर्व मंत्री भी पहुंचे हैं.

AD
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button