HOMEMADHYAPRADESHराष्ट्रीय

Rashan Dukan In MP: 3 दिन बंद रहेंगी राशन दुकानें, 50 हजार मासिक मानदेय सहित इन मांगो को लेकर हड़ताल पर जाएंगे विक्रेता

Rashan Dukan In MP: प्रभावित होंगे 5 करोड़ हितग्राही

Rashan Dukan In MP: 3 दिन बंद रहेंगी राशन दुकानें, 50 हजार मासिक मानदेय सहित इन मांगो को लेकर हड़ताल पर जाएंगे विक्रेता । वर्तमान में सेल्समैन को प्रति क्विंटल 70 रुपए कमीशन मिलता है। अप्रैल 2022 को यह कमीशन बढ़ाकर 90 रुपए कर दिया गया है, लेकिन वर्तमान समय तक बढ़ा हुआ कमीशन नहीं दिया गया।

तीन दिन हड़ताल

अपनी मांगों को लेकर आल इंडिया फेयर प्राइज शाप डीलर्स फेडरेशन के समर्थन में शासकीय उचित मूल्य की दुकानों के विक्रेता एवं प्रबंधक तीन दिन हड़ताल पर रहेंगे। इससे राजधानी सहित पूरे प्रदेश में सात, आठ और नौ फरवरी को राशन वितरण बंद रहेगा, जिससे प्रदेश के पांच करोड़ से अधिक हितग्राही प्रभावित होंगे। फेडरेशन की मध्यप्रदेश इकाई ने इस बारे में मुख्यमंत्री, सहकारिता मंत्री और खाद्य मंत्री को अवगत कराया है।

यह भी पढ़ें-  जिला चिकित्सालय के 50 बिस्तरीय क्रिटीकल केयर ब्लॉक का वर्चुअली भूमिपूजन संपन्न

बढ़ा हुआ कमीशन नहीं मिला

राजधानी उपभोक्ता भंडार संचालक कल्याण समिति का कहना है कि वर्तमान में सेल्समैन को प्रति क्विंटल 70 रुपए कमीशन मिलता है। अप्रैल 2022 को यह कमीशन बढ़ाकर 90 रुपए कर दिया गया है, लेकिन वर्तमान समय तक बढ़ा हुआ कमीशन नहीं दिया गया। यही नहीं, पीएमजीकेवाय का कमीशन भी किसी दुकानदार को नहीं दिया गया।

30 फीसदी को ही राशन मिल सकेगा

इसके पहले 13 माह की अंतर राशि भी अटकी हुई है। इस संबंध में कई बार अधिकारियों को अवगत कराया, लेकिन किसी ने भी इस पर ध्यान नहीं दिया। फरवरी माह का राशन वितरण किया जा रहा है। हड़ताल के चलते सात तारीख से तीन दिनों के लिए इसे रोक दिया जाएगा। ऐसे में महज 30 फीसदी को ही राशन मिल सकेगा।

यह भी पढ़ें-  राज्य स्तरीय मीडिया सेंटर की आधारशिला कार्यक्रम में सम्मलित होने कटनी के पत्रकार भोपाल रवाना

हड़ताल की घोषणा के बाद दुकानों पर हितग्राहियों की भीड़ बढ़ने लगी है। वहीं हर महीने की सात तारीख को अन्न उत्सव मनाया जाता है, लेकिन इस महीने यह नहीं मनाया जा सकेगा। इसकी तारीख अब 10, 11 और 13 फरवरी कर दी गई है। इसको लेकर खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण प्रमुख सचिव के द्वारा आदेश दिए गए है।

यह भी पढ़ें-  Katni: गांधी जयंती पर मानवाधिकार एसोसिएशन ने चलाया स्वच्छता अभियान

ये हैं मांग

– पुरानी पीएमजीकेवाई योजना के अनुसार पहले की तरह राशन दिया जाना।
– 50 हजार की न्यूनतम मासिक आय की गारंटी मानदेय के रूप में तय करना ।
– हितग्राहियों के उत्पीड़न को कम करने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की जाए।
– जूट की बोरी में राशन की आपूर्ति की जाए।
– रूके हुए कमीशन का भुगतान किया जाए और बढ़ाया भी जाए।

Related Articles

Back to top button