Corona newsHealthHOMEज्ञान

Cholesterol: कोलेस्‍ट्राल स्‍तर को कम ही नहीं कैंसर से भी लड़ेगी यह दवा

Cholesterol: कोलेस्‍ट्राल स्‍तर को कम ही नहीं कैंसर से भी लड़ेगी यह दवा

Cholesterol: कोलेस्‍ट्राल स्‍तर अधिक है तो आपके लिए खबर अच्छी है। यदि सब कुछ ठीक रहा तो जल्‍द ही इस पर नियंत्रण पाया जा सकेगा। कोलेस्ट्राल वैसे शरीर के लिए जरूरी है, लेकिन इसकी अधिकता से जान खतरे में पड़ जाती है। यह बैड कोलेस्ट्राल हमारे हृदय के लिए घातक होता है। इस बीच, अमेरिकी विज्ञानियों ने मुंह के जरिये दी जाने वाली एक ऐसी दवा खोजने का दावा किया है, जिसने चूहों पर किए गए अध्ययन में इसे 70 प्रतिशत तक कम करने में सफलता पाई है।

AD

क्‍या है शोध में खास

शोधकर्ताओं का यह अध्ययन जर्नल सेल रिपोट््‌र्स में प्रकाशित हुआ है। शोध में बताया गया है कि कोलेस्ट्राल के प्रबंधन के लिए अध्ययनकर्ताओं ने पहले से अपरिचित रणनीति अपनाई। दावा किया कि इससे कैंसर के उपचार में भी मदद मिल सकती है। शोधकर्ताओं ने कहा कि कोलेस्ट्राल कम करने के लिए ली जाने वाली दवा स्टैटिन के बाद दवाओं की अगली अग्रणी श्रेणी पीसीएसके-9 अवरोधक हैं। ये अत्यधिक प्रभावी एजेंट शरीर को रक्त से अतिरिक्त कोलेस्ट्राल घटाने में मदद करते हैं। लेकिन मुंह के जरिये लिए जाने वाले स्टैटिन के विपरीत पीसीएसके-9 अवरोधकों को केवल शाट््‌स के रूप में लिया जा सकता है, जिससे उनके इस्तेमाल में बाधा उत्पन्न होती है।

मुंह से ली जा सकेगी यह दवा

नवीनतम अध्ययन में अमेरिका के यूनिवसिर्टी हास्पिटल्स (यूएच) एंड केस वेस्टर्न रिजर्व यूनिवर्सिटी स्कूल आफ मेडिसन के शोधकर्ताओं ने मुंह के जरिये ली जाने वाली छोटी-अणु दवा विकसित की है जो पीसीएसके-9 के स्तर को कम करती है। इसने चूहों में बैड कोलेस्ट्राल को 70 प्रतिशत तक कम करने में सफलता पाई। शोध के वरिष्ठ लेखक एवं यूनिवर्सिटी हास्पिटल्स के प्रोफेसर जोनाथन एस स्टैमलर ने कहा कि स्टैटिन केवल कोलेस्ट्राल कम करते हैं। लेकिन यह नई दवा पीसीएसके-9 के स्तर को भी कम करती है, जिससे कैंसर के निदान में भी मदद मिल सकती है।

Show More
AD
Back to top button