हाेम

गोरक्षकों पर SC सख्त: राज्यों को एक सप्ताह में टास्क फोर्स बनाने के लिए दिये निर्देश

7 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और छह राज्य सरकारों को नोटिस जारी कर गोरक्षा के नाम पर बने संगठनों पर प्रतिबंध लगाने की मांग को लेकर दायर की गई जनहित याचिका पर जवाब मांगा था। सुप्रीम कोर्ट ने देश में गोरक्षा के नाम पर चल रही हिंसा को रोकने के लिए आज राज्यों को निर्देश दिया कि जिलों में वरिष्ठ पुलिसर्किमयों को नोडल अधिकारियों के तौर पर नियुक्त किया जाए। कोर्ट ने राज्य के मुख्य सचिवों से कहा कि वे गोरक्षा के नाम पर होने वाली हिंसा को काबू में करने के लिए उठाए गए कदमों की विस्तृत रिपोर्ट दाखिल करें। साथ ही कोर्ट ने केंद्र से जवाब मांगा कि गोरक्षा के नाम पर होने वाली हिंसा को रोकने के लिए कदम उठाने का निर्देश राज्यों को देने की उसकी संवैधानिक जिम्मेदारी है या नहीं?

यह भी पढ़ें-  अब 2 से 18 साल के बच्चों के टीके की तैयारी, कोवैक्सिन से होगा दूसरे-तीसरे चरण का ट्रायल

कोर्ट ने राज्यों को एक सप्ताह में अपना टास्क फोर्स बनाने के लिए कहा है, जिसमें वरिष्ठ पुलिसकर्मियों को नोडल अधिकारी के रूप में रखा जाएगा। इससे पहले 7 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और छह राज्य सरकारों को नोटिस जारी कर गोरक्षा के नाम पर बने संगठनों पर प्रतिबंध लगाने की मांग को लेकर दायर की गई जनहित याचिका पर जवाब मांगा था। याचिकाकर्ता तहसीन पूनावाला ने राजस्थान के अलवर इलाके में हुई एक घटना का हवाला देते हुए गोरक्षा के नाम पर दलितों और अल्पसंख्यकों के खिलाफ हो रही हिंसा को रोकने की मांग की थी।

यह भी पढ़ें-  CBSE Board Exam 2021: 30 जून के बाद जारी होगा 10वीं कक्षा का परिणाम, जानें महत्वपूर्ण तारीखें
Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button