HOMEMADHYAPRADESHजरा हट के

Honeytrap In Indore: गुंडे और पुलिस वालों ने मिलकर रचा षड्यंत्र, फिर युवती ने हनीटट्रैप में फंसा व्यापारी से 50 लाख वसूले

Honeytrap In Indore: गुंडे और पुलिस वालों ने मिलकर रचा षड्यंत्र, फिर युवती ने हनीटट्रैप में फंसा व्यापारी से 50 लाख वसूले

AD
Honeytrap In Indore: श्रीनगर एक्सटेंशन के कारोबारी से हनीट्रैप में फंसा कर युवती ने 50 लाख रुपये वसूल लिए। खास बात यह है कि साजिश MIG के सूचीबद्ध गुंडे और पुलिसवालों ने रची।
लेनदेन के बाद भी दुष्कर्म की धमकी देने पर पीड़ित ने केस दर्ज करवा दिया। पुलिस ने आरोपित युवती को गिरफ्तार कर लिया है। उसके मोबाइल में संभ्रांत परिवारों के युवकों के वीडियो मिले हैं।
डीसीपी जोन-2 संपत उपाध्याय के मुताबिक शिकायतकर्ता रवि एमएल अग्रवाल से आरोपित प्रिया चौहान (पार्श्वनाथ अपार्टमेंट) की पहली मुलाकात पिछले वर्ष सितंबर में दीप तलवानिया नामक युवक ने करवाई थी। दोनों में दोस्ती हो गई और रवि फ्लाइट से प्रिया को बेंगलुरू ले गया। इस दौरान दोनों के शारीरिक संबंध भी बन गए।
प्रिया गुंडे साहिल उर्फ बच्चा (श्रीनगर) से मिल गई और दुष्कर्म में फंसाने की धमकी देकर रुपयों की मांग करने लगी। बदनामी के डर से रवि ने 30 लाख नकद दे दिए। इसके बाद भी प्रिया और साहिल हत्या की धमकी देकर 20 लाख रुपये और मांगने लगे। रुपये न देने पर आरोपितों ने रवि के घरवालों को भी धमकाया।
इस घटनाक्रम से आहत पत्नी के घर छोड़ने पर सोमवार दोपहर रवि डीसीपी जोन-2 संपत उपाध्याय के पास पहुंचा और प्रिया व साहिल के विरुद्ध ब्लैकमेलिंग की रिपोर्ट लिखवा दी। मंगलवार शाम एसआइ सीमा शर्मा ने प्रिया को बयान के बहाने बुला कर गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी पत्रक पर हस्ताक्षर करवाते ही प्रिया ने चिल्ला-चिल्ला कर कहा ब्लैकमेलिंग में एमआइजी थाने के पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। उसको तो सिर्फ 13 लाख रुपये मिले है। बाकी रुपये तो सिपाही और बच्चा लेकर भाग गया।
उसने कथित मामा का भी नाम लिया जिसे सिपाही लेकर आया था। जैसे ही पुलिसकर्मियों का नाम आया ड्यूटी पर पदस्थ पुलिसकर्मी कुर्सी छोड़ कर बाहर आ गए। एसआइ ने प्रिया के बयानों की वीडियो रिकार्डिंग की तो संदेही सिपाही ने थाने में खूब हंगामा किया।
आरोपित प्रिया ने सबसे पहले 9 दिसंबर को बुटिक के लिए 21 लाख रुपये ऐंठे और संविदनगर में प्रिया फैशन के नाम से शाप खोली। दूसरी किस्त में एक लाख 91 हजार रुपये खाते में जमा करवाए। 21 मार्च को एलआइजी चौराहा पर बुला कर 50 लाख रुपये की मांग की। उससे कहा कि साहिल गुंडा है और कई लोगों को चाकू मार चुका है। 8 अगस्त को सांवेर रोड पर रोका और 20 लाख रुपये के लिए फिर धमकाया।
साहिल और पुलिसकर्मियों से मिलकर प्रिया ने झूठा आवेदन दे दिया। रवि लाखों रुपयों से भरा बैग लेकर आया और थाने में ही रुपये सौंपे। बैग प्रिया का कथित मामा लेकर चला गया। इस तरह दो किस्त में 30 लाख भी ले लिए। एएसआइ धीरज शर्मा ने बयान और शपथपत्र लेकर जांच बंद कर दी। प्रिया ने पूछताछ में बताया रवि द्वारा दिए रुपये पुलिसकर्मियों ने बांट लिए थे। रवि द्वारा सौंपे आवेदन में भी साजिश में शामिल पुलिसकर्मी का नाम था लेकिन बदनामी के डर से टीआइ अजय वर्मा ने आवेदन पत्र बदलवा दिया।

AD

AD
Show More
Back to top button