HOMEराष्ट्रीय

Car air Bag कम लगाने पर कम्पनियों को फटकार लगाते गडकरी बोले: क्या गरीबों की जान की कीमत नहीं

जब एक्सपोर्ट करने के लिए कार बनाते हैं तो इसमें 6 एयरबैग देते हैं जबकि देश में इस्तेमाल के लिए बनाते हैं तो केवल चार एयरबैग

AD

Car air Bag 6 की जगह 4 लगाए जाने पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कार कम्पनियों को जमकर फटकार लगाते हुए कहा कि कहा कि इकॉनमी कार बनाने वाले निर्माता जब एक्सपोर्ट करने के लिए कार बनाते हैं तो इसमें 6 एयरबैग देते हैं जबकि देश में इस्तेमाल के लिए बनाते हैं तो केवल चार एयरबैग ही लगाते हैं।

AD

एयरबैग लगाने की कीमत 900 रुपये

श्री गडकरी ने बड़ा सवाल उठाते हुए कहा कि क्या गरीबों के जीवन की कीमत नहीं है? एक टीवी चैनल से बात करते हुए उन्होंने कहा कि कंपनियां तर्क देती हैं कि ज्यादा एयरबैग लगाने से कार की कीमत बढ़ जाएगी। उन्होंने कहा कि कार में एक एयरबैग लगाने की कीमत 900 रुपये तक लाई जा सकती है।

IRCTC Indian Railway Rule ट्रेन लेट होने पर आईआरसीटीसी देगा ये सुविधा, आप भी अधिकार से मांगिए

6 एयरबैग air Bag लगाना अनिवार्य किया जाएगा

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कार में 6 एयरबैग लगाना अनिवार्य किया जाएगा और यह प्रक्रिया चल रही है। नितिन गडकरी लंबे समय से गाड़ियों में 6 एयरबैग की वकालत करते रहे हैं। संसद में भी गडकरी ने कहा था कि एयरबैग का खर्च मात्र 900 रुपये है और जो लोग गाड़ी में पीछे बैठते हैं उनकी भी सुरक्षा जरूरी है।

अहमदाबाद-मुंबई हाइवे पर ट्रैफिक फ्लो बहुत ज्यादा

टाटा सन्स के पूर्व चेयरमैन सायरस मिस्त्री की सड़क दुर्घटना में मौत के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा कि अहमदाबाद-मुंबई हाइवे पर ट्रैफिक फ्लो बहुत ज्यादा होता है और इसलिए यह बहुत खतरनाक भी है। गडकरी ने कहा कि जिस हाइवे पर मिस्त्री का ऐक्सिडेंट हुआ है वह उन्होंने ने ही बनवाया था। उस वक्त गडकरी महाराष्ट्र सरकार में लोक निर्माण विभाग के मंत्री थे।

भारत दुनिया का दुसरा सबसे बड़ा रोड नेटवर्क वाला देश

सड़क दुर्घटनाओं के बारे में गडकरी ने कहा कि भारत दुनिया का दुसरा सबसे बड़ा रोड नेटवर्क वाला देश बन गया लेकिन अभी बहुत कुछ बाकी है। हर साल यहां पांच लाख से ज्यादा ऐक्सिडेंट होते हैं और इनमें डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों की जान जाती है। इनमें 65 फीसदी मरने वाले वे होते हैं जिनकी उम्र 18 से 34 साल के बीच है। उन्होंने कहा, हम चाहते हैं कि 2024 के आखिरी तक देश में सड़क दुर्घटनाएं आधी हो जाएं। इस दिशा में काम शुरू कर दिया गया है।

AD
Show More
Back to top button