HOMEMADHYAPRADESH

MP प्रदेश के सबसे पुराने पोलिटेक्निक संस्थान श्री वैष्णव पोलिटेक्निक में छात्राओं ने की यौन उत्पीड़न की शिकायत

MP प्रदेश के सबसे पुराने पोलिटेक्निक संस्थान श्री वैष्णव पोलिटेक्निक में छात्राओं ने की यौन उत्पीड़न की शिकायत

AD

MP प्रदेश के सबसे पुराने और प्रतिष्ठित पोलिटेक्निक संस्थान श्री वैष्णव पोलिटेक्निक में छात्राओं द्वारा एक शिक्षक के विरुद्ध यौन उत्पीड़न और दुर्व्यहार की शिकायत की जांच के दो साल बाद भी कार्रवाई नहीं हो सकी है। इस बीच संस्थान के प्राचार्य ने इस्तीफा दे दिया। पूर्व प्राचार्य ने छात्राओं की शिकायत की जांच रिपोर्ट और बयानों की सीडी सीलबंद लिफाफे में सौंपकर कार्रवाई की मांग की है।

AD

एमओजी लाइन स्थित वैष्णव पालिटेक्निक संस्थान सरकार द्वारा शत प्रतिशत अनुदान प्राप्त संस्थान में शामिल है। बीते वर्षों से संस्थान की बहुमूल्य जमीन को लेकर प्रशासन और वैष्णव ट्रस्ट संस्थान पर नजर गढ़ाए है। इस बीच एक के बाद एक संस्थान में तमाम तरह की अनियमितताएं भी सामेन आ चुकी है।

कुछ महीनों पहले संस्थान के प्राचार्य पद से डॉ.संजय सोडानी ने इस्तीफा दे दिया था। बताया जा रहा है कि सोडानी संस्थान की जमीन हाउसिंग बोर्ड को सौंपने का विरोध कर रहे थे साथ ही संस्थान में कई वित्तीय अनियमितता उन्होंने पकड़ ली थी। अब सोडानी की लिखी एक चिठ्ठी सामने आई है।संस्थान के मौजूदा प्राचार्य एसएस शर्मा को रजिस्टर्ड डाक से यह चिट्ठी पूर्व प्राचार्य ने भेजी है। इसमें लिखा है कि संस्थान की नाबालिक छात्राओं के साथ एक फैकल्टी द्वारा यौन उत्पीड़न की शिकायत के मामले में जांच जून 2020 में पूरी कर ली गई थी। रिपोर्ट और बयानों की सीडी सीलबंद लिफाफे में है।

उसे शासी निकाय के समक्ष रखा जाए। सोडानी ने मांग की है कि शासी निकाय के सदस्य इस सीडी को बैठक में ही देखे। माना जा रहा है कि जांच के बाद भी संस्थान द्वारा कार्रवाई नहीं करने की शंका में सोडानी ने यह चिट्ठी लिखी है। साथ ही संस्थान ने नियम तोड़कर अवैध प्रमोशन लेने और एक साथ दो जगहों से वेतन लेने के मामले का भी उन्होंने खुलासा किया है। एक शिक्षक उल्लेख करते हुए पूर्व प्राचार्य ने मौजूदा प्राचार्य शर्मा पर आरोप लगाया है कि आपके द्वारा आरोपितों को बचाने का सार्वजनिक आश्वासन देने की बात पता चली है। जबकि संस्थान की कमेटी जांच के बाद वित्तीय अनिमयमितता करने वाले शिक्षकों से वसूली का आदेश भी जारी कर चुकी है।

AD
Show More
Back to top button