Elon Musk News: रिलायंस जियो को पानी पिलाने की फिराक में एलन मस्क, जानिए क्या है प्लान

नई दिल्ली
दुनिया के सबसे बड़े रईस एलन मस्क (Elon Musk) की नजर अब भारत की टेलिकॉम इंडस्ट्री पर है। उनकी कंपनी स्पेस एक्सप्लोरेशन टेक्नोलॉजीज कॉरपोरेशन (SpaceX) स्टारलिंक प्रोजेक्ट के जरिए भारत आने की योजना बना रही है। मस्क 100 एमबीपीएस सैटेलाइट बेस्ड इंटरनेट सेवा के जरिए तेजी से बढ़ रही भारतीय टेलीकम्युनिकेशन इंडस्ट्री में अपनी किस्मत आजमाना चाहते हैं।

सूत्रों के मुताबिक मस्क ने भारत सरकार को देश में सैटेलाइट आधारित ब्रॉडबैंड टेक्नोलॉजीज की अनुमति देने का अनुरोध किया है। टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने देश में ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए पिछले साल अगस्त में एक कंसल्टेशन पेपर जारी किया था। इसके जवाब में SpaceX की सैटेलाइट गवर्नमेंट अफेयर्स पैट्रीशिया कूपर ने कहा कि स्टारलिंक के हाई स्पीड सैटेलाइट नेटवर्क से भारत के सभी लोगों को ब्रॉडबैंक कनेक्टिविटी से जोड़ने के लक्ष्य में मदद मिलेगी।

क्या है प्लान
उन्होंने कहा कि उनकी सर्विस से दूरदराज के वे सभी लोग लाभांवित होंगे जो अभी ब्रॉडबैंड सेवा से वंचित हैं। उन्होंने साथ ही कहा कि उनकी सर्विस बहुत सस्ती होगी। साथ ही SpaceX जल्दी ही भारत में स्टारलिंक को लॉन्च कर सकती है, बशर्ते ट्राई उसकी सिफारिशें माने। SpaceX का स्टारलिंक प्रोजेक्ट पृथ्वी की निचली कक्षा में मौजूद सैटेलाइट्स का एक समूह है जिसके जरिए दुनिया के दूरदराज के इलाकों में ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शन मुहैया कराया जा सकता है।

स्पेस एक्सप्लोरेशन टेक्नोलॉजीज कॉरपोरेशन (SpaceX) ने स्टारलिंक इंटरनेट सर्विस के लिए 1000 से भी अधिक सैटेलाइट छोड़े हैं। कंपनी अमेरिका, ब्रिटेन और कनाडा में धड़ाधड़ ग्राहकों के साथ साइन करने में लगी है। SpaceX ने निवेशकों से कहा है कि स्टारलिंक की नजर इन-फ्लाइट इंटरनेट, मैरिटाइम सर्विसेज, भारत और चीन में डिमांड और रूरल कस्टमर्स पर है। यह पूरा बाजार एक ट्रिलियन डॉलर का है। कई महीनों से SpaceX अपने Falcon 9 रॉकेट्स से स्टारलिंक सैटेलाइट्स लॉन्च करने में लगी है। एक बार में 60 सैटेलाइट भेजे जा रहे हैं। 17वां स्टारलिंक लॉन्च 20 जनवरी को हुआ था। ऑर्बिट में कंपनी के 960 सैटेलाइट एक्टिव हैं। इससे स्पेसएक्स नॉर्थ अमेरिकी और ब्रिटेन में बड़े पैमाने पर सर्विस शुरू करने की तैयारी में है। इस बारे में स्पेसएक्स ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

सस्ती सेवा
एयरोस्पेस और डिफेंस इंडस्ट्रीज पर नजर रखने वाली कंपनी Alvaraez & Marsal के एमडी Luigi Peluso ने कहा कि लोग कंपनी की सर्विस से खुश हैं। स्टारलिंक लोगों को सस्ते मे सेवा दे रही है। स्पेसएक्स ने अपने सॉल्यूशंस की व्यावहारिकता साबित की है। पिछले साल स्पेसएक्स के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर Gwynne Shotwell ने कहा कि स्टारलिंक ऐसा बिजनस है जिसे पब्लिक किया जा सकता है। पिछले साल टेस्ला इंक को बाजार ने हाथोंहाथ लिया था और कंपनी के शेयरों में उछाल की बदौलत मस्क दुनिया के सबसे बड़े रईस बन गए।

आसान नहीं है राह
स्टालिंक अगर भारत में एंट्री करती है तो यहां उसे मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो (Reliance Jio) से कड़ा मुकाबला करना होगा जो 5जी लॉन्च करने की तैयारी में है। बैंक ऑफ अमेरिका ग्लोबल रिसर्च की रिपोर्ट के अनुसार जियो 4जी रोलआउट भारत के इंटरनेट क्षेत्र के लिए गेम चेंजर साबित हुआ है। इसने किफायती दामों पर यूजर्स को इंटरनेट मुहैया कराया जिससे बड़े पैमाने पर डेटा उपयोग को बढ़ावा मिला। भारत में अब करीब 65 करोड़ इंटरनेट उपयोगकर्ता हैं जो औसतन 12 GB डेटा प्रतिमाह इस्तेमाल करते हैं। जियो ने सस्ती कीमतों पर डेटा और सेवाएं प्रदान करके बाजार के आकार को बढ़ाया है।

हालांकि स्टारलिंक को इस फील्ड में कड़ी स्पर्द्धा का सामना करना पड़ेगा। दूरदराज के इलाकों में फाइबर ऑप्टिक कैबल को बिछाना काफी महंगा पड़ता है। 5जी और फिर 6जी के आने से सेल्युलर कनेक्टिविटी में क्रांति आने की संभावना है। फेसबुक इंक जैसी कंपनियां दूरदराज के क्षेत्रों में इंटरनेट सेवाएं पहुंचाने के लिए कई इनोवेटिव तरीके विकसित करने में लगी हैं।