मध्य प्रदेश: 3 जनवरी को होगा शिवराज कैबिनेट का विस्तार , ये दो चेहरे लेंगे शपथ

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। उपचुनाव (byelection) के बाद से ही लगातार शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार से चर्चा तेज हो गई थी। वहीं कोरोना संक्रमण की दुहाई देते हुए लगातार मंत्रिमंडल विस्तार को टाला जा रहा था। अब एक बार फिर से सियासी गलियारों में कैबिनेट विस्तार (cabinet expansion) की चर्चा सुनाई दे रही है। 

सूत्रों की माने तो शिवराज कैबिनेट का विस्तार 3 जनवरी को दोपहर 12:30 बजे होगा। इसके लिए सूचना कुछ देर पहले ही मंत्रालय से राजभवन भेजी गई है। वही खबर आ रही है कि राजभवन ने भी इस मामले की पुष्टि कर दी है। मंत्रिमंडल विस्तार में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल (anandiben patel) 12:30 बजे ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक गोविंद सिंह राजपूत और तुलसीराम सिलावट को मंत्री पद की शपथ दिलाएंगी। 

दरअसल अभी आधिकारिक तौर से शपथग्रहण का समय तय नहीं हुआ है। वहीं राज्यपाल आनंदी बेन पटेल मध्यप्रदेश से बाहर हैं ऐसे में उनके रविवार सुबह भोपाल पहुँचने की सम्भावना है। इसके साथ ही कैबिनेट में शामिल होने वाले 4 अन्य विधायक कौन होंगे। इसकी की लिस्ट अबतक फाइनल नहीं हुई है। 

Read More: MP: नए साल में कर्मचारियों को मिलेगा तोहफा, विभाग ने जारी किए निर्देश 

ज्ञात हो कि इससे पहले मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दिल्ली का दौरा कर चुके हैं और इसके साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया से 1 महीने के भीतर उनकी 4 बार मुलाकात हो चुकी है। वहीं सूत्रों की माने तो शुक्रवार सुबह ही राष्ट्रीय नेतृत्व ने मंत्रिमंडल विस्तार की अनुमति दी है। मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर हुए विधानसभा उपचुनाव में बीजेपी ने 19 सीटों पर जीत दर्ज की थी। हालांकि शिवराज कैबिनेट में अभी 6 पद खाली है लेकिन सिंधिया समर्थक दो मंत्रियों का इन पर नाम तय माना जा रहा है। जिसमें गोविंद सिंह राजपूत (govind singh rajput) और तुलसीराम सिलावट (tulsiram silawat) के नाम पर मुहर लग चुकी है। 

गौरतलब हो कि उपचुनाव के नतीजे आए डेढ़ महीने से अधिक का समय हो चूका है लेकिन शिवराज कैबिनेट का विस्तार नहीं हो पाया है। इसका एक कारण सिंधिया समर्थित हारे हुए नेताओं को कहीं और एडजस्ट करना है। वहीं बीजेपी खाते से कई नाम ऐसे है जो मंत्रिमंडल में जगह पाने के हक़दार है। अब ऐसे में किन नेताओं को मंत्रिमंडल में जगह दी जाती है। यह अभी चर्चा का विषय है। वहीं सीएम शिवराज के सामने चुनौती होगी कि वह कैबिनेट की बची हुई सीटों पर सिंधिया समर्थकों को शामिल करते हैं या बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं को कैबिनेट विस्तार में जगह देंगे