‘फेसबुक क्वीन’ किरण यादव गिरफ्तार, हिंदू देवी-देवताओं पर की थी अभद्र टिप्पणी

बिहार की किरण यादव अक्सर सोशल मीडिया पर हिंदू देवी देवताओं के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करती रहती हैं। उन्हें अब राज्य पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। यादव पर लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा है। सोशल मीडिया के जरिए खूब सुर्खियां बटोरने वाली किरण यादव ने पिछले दिनों अपने अकाउंट से धार्मिक भावनाओं को भड़काने वाली पोस्ट की थी और इसे लेकर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। इसपर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने उन्हें गुरुवार शाम को गिरफ्तार कर लिया।

भगवान राम और दशरथ पर की थी टिप्पणी
पिछले दिनों यादव का एक वीडियो वायरल हुआ था। इसमें वह भगवान राम, उनके पिता दशरथ और माता सीता के बारे में अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए दिख रही थी। वीडियो में वह राजपूतों के खिलाफ भी अभद्र टिप्पणी करती नजर आई थीं। इसे लेकर उनपर लोगों की धार्मिक भावनाओं को भड़काने का आरोप लगा था।
किरण के खिलाफ दर्ज हुई शिकायत में कहा गया है कि उक्त महिला द्वारा धार्मिक, सांप्रदायिक एवं जातिगत भवनाओं/ सौहार्द को बिगाड़ने के उद्देश्य से यह वीडियो बनाया गया और फिर इसे वायरल किया गया। इसके बाद पुलिस की ये कार्रवाई की गई और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

यह भी पढ़ें- मुस्लिम परिवार ने मेरठ में पेश की सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल, शिव मंदिर के नाम किया जमीन का वसीयतनामा

हाजीपुर नगर थाने में दर्ज हुई थी शिकायत
किरण के खिलाफ हाजीपुर नगर थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी। खुद को सामाजित कार्यकर्ता बताने वाली किरण बिहार के वैशाली जिले की चांदपुरा इलाके में रहती हैं। वह सामाजिक, राजनीतिक और अन्य मुद्दों को लेकर अक्सर सोशल मीडिया पर पोस्ट करती रहती हैं। फेसबुक पर उके 10 लाख से ज्यादा फॉलोवर्स हैं। इन्हीं पोस्ट के कारण अक्सर वे विवादों में भी रही हैं। उनके नाम से सोशल मीडिया पर कई फैन पेज और ग्रुप्स बने हुए हैं।

सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का किया गया काम
इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए पुलिस ने कहा, ‘सोशल मीडिया पर एक महिला का वीडियो वायरल हुआ था जो हिंदू देवी देवताओं के खिलाफ अभद्र भाषा का प्रयोग कर रही है। इसके अलावा मुस्लिमों को हिंदुओं की अगड़ी जातियों से डरने की बात कह रही थी। अफवाह फैलाने का काम उसमें काम हो रहा है। हाजीपुर पुलिस किसी भी तरह की अफवाहों पर रोक लगाने को लेकर सक्रिय है। वीडियो में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का काम किया है।’