HOMEMADHYAPRADESH

MP Panchayat Chunav लीगल ओपिनियन के आधार पर ही आयोग चुनाव स्थगित करने का फैसला लेगा, अभी मंथन जारी

MP Panchayat Chunav आज शाम को नहीं हो सका पंचायत चुनाव स्थगित होने की विधिवत घोषणा, आयोग अभी मंथन में

Advertisements

MP Panchayat Chunav। खबर मिली थी कि मध्य प्रदेश के पंचायत चुनाव को स्थगित करने की घोषणा आज शाम 4 बजे हो सकती है, पर अभी तक कोई डिसिजन नहीं हुआ। चुनाव आयोग की बैठक खत्म हो गई। इसके बाद खबर थी कि आयोग ने सायं 4 बजे प्रेस कांफ्रेंस में चुनाव स्थगित करने की घोषणा कर सकता है। पर 5 बजे तक आयोग की तरफ से कोई खबर नहीं मिली। पंचायत चुनाव निरस्त करने के मामले में राज्य निर्वाचन आयोग का बयान आया है। आयोग के सचिव बीएस जामोद ने बताया कि पंचायत चुनाव के अध्यादेश को वापस लेने की सूचना आज शासन से आयोग को मिल गई है इस मामले पर आयोग ने पंचायत एवं ग्रामीण विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की अब आयोग को विधि विशेषज्ञों की राय का इंतजार शाम तक लीगल ओपिनियन राज्य निर्वाचन आयोग को मिल जाएगा लीगल ओपिनियन के आधार पर ही आयोग चुनाव कराने ना कराने का लेगा फैसला

 

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश सरकार द्वारा पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज संशोधन अध्यादेश वापस लेने के निर्णय और इस पर राज्यपाल की मंजूरी मिलने के बाद राज्य निर्वाचन आयोग ने बैठक बुलाई। इसमें राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह, प्रमुख सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास उमाकांत उमराव, सचिव राज्य निर्वाचन आयोग बीएस जामोद सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे। उमाकांत उमराव में पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज अध्यादेश वापस लिए जाने के फैसले से जुड़ी जानकारी राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह को दी। बैठक में मौजूदा चुनाव प्रक्रिया को लेकर विचार किया गया। अब आयोग अध्यादेश वापस लेने से उत्पन्न परिस्थितियों के मद्देनजर विधिक सलाह ले रहा है। चुनाव को लेकर आयोग निर्णय विधिक सलाह मिलने के बाद लेगा।

राज्य निर्वाचन आयोग सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित (पंच, सरपंच, जनपद और जिला पंचायत सदस्य) पदों को छोड़कर चुनाव करा रहा था। चूंकि जिस अध्यादेश के आधार पर चुनाव कार्यक्रम घोषित हुआ था, सरकार ने उसे ही वापस ले लिया है इसलिए चुनाव प्रक्रिया को स्थगित करना पड़ेगा। विधानसभा के पूर्व प्रमुख सचिव भगवानदेव इसराणी का कहना है कि जिस प्रविधान से चुनाव कराए जा रहे थे, जब वो ही नहीं रहेगा तो फिर चुनाव नहीं कराए जा सकते हैं

यह भी पढ़ें-  CM, BJP प्रदेशाध्यक्ष, केन्द्रीय मंत्री, प्रदेश शासन के मंत्री सहित जनप्रतिनिधिगण 23 जनवरी को बूथ विस्तारक अभियान में होंगे शामिल
Show More

Related Articles

Back to top button