GadgetMADHYAPRADESHज्ञानराष्ट्रीय

Debit Card Fraud: रॉड के नए तरीके इस्तेमाल कर रहे जालसाज, बचने के लिए इन सुझावों पर करें गौर

Debit Card Fraud: किसी भी खोए या चोरी हुए कार्ड की तुरंत रिपोर्ट करें। इसके अलावा ग्राहकों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें लेनदेन के लिए अलर्ट मिले और जैसे ही वे इसे नोटिस करते हैं फिर से किसी भी संदिग्ध गतिविधि की रिपोर्ट करें।

Debit Card Fraud नई दिल्ली। Debit Cards से लेनदेन में कई तरह के फायदे हैं। कोई भी इसका उपयोग करके खाते से नकदी निकाल सकता है या ऑनलाइन खरीदारी कर सकता है या किसी बिल का भुगतान कर सकता है। हालांकि, डेबिट कार्ड से धोखाधड़ी का भी खतरा होता है और ग्राहकों को इससे सतर्क रहना चाहिए। डेबिट कार्ड धोखाधड़ी तब होती है जब कोई अनधिकृत व्यक्ति कार्ड या उसके डिटेल तक पहुंच बना लेता है। इसके बाद वह कई धोखाधड़ी वाले लेनदेन कर सकता है। तो, इन धोखाधड़ी को कैसे रोकें, इसके लिए कुछ सुझाव हैं:

पिन हमेशा याद रखें और इसे किसी के साथ साझा न करें। ध्यान रखें कि कोई भी बैंक आपसे किसी भी कारण से पिन नहीं मांगेगा। कार्ड के सीवीवी नंबर पर भी यही बात लागू होती है। सीवीवी तीन अंकों की संख्या होती है। डेबिट कार्ड के पीछे जिसका उपयोग डेबिट कार्ड के माध्यम से किए गए ऑनलाइन लेनदेन को प्रमाणित करने के लिए किया जाता है। इसलिए इस नंबर को याद रखें और यदि संभव हो तो कार्ड पर सीवीवी नंबर छुपाकर रखें।

स्टेटमेंट को मॉनिटर करें और किसी भी संदिग्ध गतिविधि को रिपोर्ट करें

किसी भी अपरिचित गतिविधि के लिए स्टेटमेंट को मॉनिटर करें और किसी भी खोए या चोरी हुए कार्ड की तुरंत रिपोर्ट करें। इसके अलावा, ग्राहकों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें लेनदेन के लिए अलर्ट मिले और जैसे ही वे इसे नोटिस करते हैं, फिर से किसी भी संदिग्ध गतिविधि की रिपोर्ट करें।

केवल विश्वसनीय व्यापारियों के कार्ड का इस्तेमाल करें

ग्राहकों को केवल विश्वसनीय व्यापारियों पर ही कार्ड का उपयोग करना चाहिए और फिर भी यदि संभव हो तो उन्हें अपने कार्ड पर ध्यान रखना चाहिए। ATM रूम में कभी भी अनजान लोगों की मदद न लें, ग्राहकों को एटीएम रूम में किसी अजनबी से किसी भी तरह की सहायता लेने से बचना चाहिए और ट्रांजेक्शन पूरा करने के तुरंत बाद अपना कार्ड और कैश सुरक्षित कर लेना चाहिए।

सारा पैसा एक जगह न रखें

ग्राहकों को सारा पैसा एक जगह नहीं रखना चाहिए।

यह भी पढ़ें-  Anti-Sikh Riots of 1984 सिख विरोधी दंगा मामले में बढ़ सकतीं हैं कमलनाथ की मुश्किलें
Show More

Related Articles

Back to top button