MADHYAPRADESH

PM नरेन्द्र मोदी के साथ CM शिवराज भी शामिल हुए गंगा आरती में

PM नरेन्द्र मोदी के साथ CM शिवराज भी शामिल हुए गंगा आरती में

Advertisements

भोपाल । वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उपस्थिति में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अन्य भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ सोमवार को गंगा आरती में शामिल हुए और पूजा अर्चना की। विशेष साज-सज्जा से आकर्षण का केंद्र बने दशाश्वमेध घाट पर विवेकानंद क्रूज से अतिथियों ने कार्यक्रम में हिस्सा लिया। ललिता घाट से अलकनंदा क्रूज में सवार होकर भी अतिथि गंगा घाट रवाना हुए। अस्सी घाट पर मां गंगा की महा आरती हुई।

प्रधानमंत्री ने गंगा आरती के पहले काशी विश्वनाथ धाम मंदिर कारिडोर का उद्घाटन किया। इस मौके पर सभी अतिथि संत रविदास घाट भी पहुंचे। मुख्यमंत्री मंगलवार 14 दिसंबर को प्रधानमंत्री की उपस्थिति में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री कान्क्लेव में हिस्सा लेंगे। इस दौरान वे राज्य में किए गए नवाचार के साथ राज्य और केंद्र सरकार की योजनाओं पर केंद्रित उपलब्धियों पर प्रस्तुतीकरण भी देंगे।

मध्य प्रदेश में ग्रामीण आबादी को आवासीय भूमि का मालिकाना हक देने का सबसे अच्छा काम हुआ है। कोरोना काल में संकट से घिरे पथ विक्रेताओं को फिर से व्यवसाय जमाने के लिए बैंकों से ब्याज मुक्त ऋण दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई है। कृषि अधोसंरचना निधि का उपयोग करने में भी मध्य प्रदेश आगे हैं। इसके अलावा आदिवासी क्षेत्र में सार्वजनिक वितरण प्रणाली का अनाज घर तक पहुंचाने की योजना सहित अन्य योजनाओं की जानकारी मुख्यमंत्री देंगे। बुधवार को वे प्रधानमंत्री और अन्य राज्यों के मुख्यमंत्री एवं उप मुख्यमंत्रियों के साथ अयोध्या में भगवान श्री राम लला के दर्शन करेंगे।

मुख्यमंत्री ने उड़ीसा के बालासोर तट पर रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन द्वारा सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड टारपीडो (स्मार्ट) के सफल परीक्षण पर वैज्ञानिकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश तो सशक्त हो ही रहा है, सेनाओं की ताकत भी निरंतर बढ़ रही है। उन्न्त तकनीक की यह मिसाइल प्रणाली निश्चित तौर पर भारतीय नौसेना को सशक्त बनाने के साथ ही रक्षा क्षेत्र में आत्म निर्भरता को बढ़ावा देगी।

यह भी पढ़ें-  MP Board Exam Date: मध्‍यप्रदेश में 10वीं-12वीं की प्री-बोर्ड परीक्षाएं 20 जनवरी से, विद्यार्थी घर से ऐसे हल करेंगे प्रश्‍न-पत्र
Show More

Related Articles

Back to top button