मध्यप्रदेशहाेम

कांग्रेस में नेताओं की उपेक्षा, अरुण यादव के बाद विवेक तन्खा नाराज

कांग्रेस में नेताओं की उपेक्षा, अरुण यादव के बाद विवेक तन्खा नाराज

Advertisements

भोपाल । मध्य प्रदेश में कांग्रेस के उन नेताओं की उपेक्षा का दौर जारी है, जो जमीनी पकड़ रखते हैं। खंडवा लोकसभा सीट के उपचुनाव के प्रबल दावेदार रहे और प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव की उपेक्षा का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि अब राज्यसभा सदस्य और कांग्रेस के जी-23 सदस्य विवेक तन्खा संगठन में मान-अपमान के घेरे में आ गए।

उपचुनाव में कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की सूची का है। इसमें तन्खा का नाम नहीं था। बाद में तन्खा का नाम सूची में शामिल किया गया, लेकिन इसके बदले विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष एनपी प्रजापति का नाम हटाना पड़ा। अब इस मामले में भाजपा हमलावर है। बता दें कि प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव ने जब देखा कि पार्टी के भीतर उन्हें उपेक्षित किया जा रहा है तो उन्होंने खुद ही उपचुनाव लड़ने से इन्कार कर दिया था।

यह भी पढ़ें-  कटनी RTO आफिस जाने पर लगने वाले टोल टैक्स से जल्द मिलेगी मुक्ति

बाद में नाराजगी थामने के लिए कांग्रेस ने स्टार प्रचारक की जिम्मेदारी देते हुए 20 नेताओं की सूची गत आठ अक्टूबर को सार्वजनिक की थी। इसमें अरुण यादव का नाम शामिल था। जबकि राज्य सभा सदस्य विवेक तन्खा का नाम सूची में दर्ज नहीं था। सूत्रों का कहना है कि तन्खा इससे खुश नहीं थे।

इस नाराजगी को थामने की कोशिश हुई और नौ अक्टूबर को संशोधित सूची जारी की गई। इसमें 18वें नंबर पर एनपी प्रजापति का नाम हटाकर तन्खा को शामिल किया गया। यह मामला मंगलवार को सार्वजनिक हुआ। इस पर भाजपा हमलावर हो गई। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर ने ट्वीट किया कि कांग्रेस की अदालत में अनुसूचित जाति का नेता धनाढ्य वकील से केस हारा। कांग्रेस अनुसूचित जाति वर्ग का ऐसे सम्मान करती।

सूची में बदलाव को लेकर विवेक तन्खा ने ट्वीट किया कि स्टार प्रचारक की सूची चुनावी प्रक्रिया की व्यवस्था है। मुझे पता होता कि प्रजापति जी के नाम की जगह मेरा नाम सम्मिलित किया जा रहा है तो मैं विनम्रतापूर्वक मना कर देता। आज भी यह बदलाव कर दें तो मुझे आपत्ति नहीं है। प्रचार हम सब करेंगे। वहीं, प्रदेश कांग्रेस के संगठन महामंत्री राजीव सिंह ने बताया कि स्टार प्रचारकों की सूची में परिवर्तन संबंधी जानकारी हमें नहीं है

Show More
Back to top button