मध्यप्रदेशहाेम

उमा भारती का बड़ा बयान, बोलीं- शराब से सबसे ज्यादा बर्बाद हो रहे हैं OBC और SC समुदाय के लोग

उमा भारती का बड़ा बयान, बोलीं- शराब से सबसे ज्यादा बर्बाद हो रहे हैं OBC और SC समुदाय के लोग

Advertisements

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की पूर्व मुख्यमंत्री व बीजेपी की वरिष्‍ठ नेता उमा भारती (Uma Bharti) ने एक बार फिर शराबबंदी को लेकर बड़ा बयान दिया है. सोशल मीडिया में एक के बाद एक ट्वीट किए. उमा भारती के बयान को लेकर अब सवाल खड़े हो रहे हैं. बीजेपी की वरिष्ठ नेता उमा भारती ने लिखा है कि प्रदेश में पिछड़े एवं एससी, एसटी वर्ग की संख्या 92 फीसदी है. इनमें से अधिकतर लोग शराब की बुरी लत के कारण ही बर्बादी, बीमारी, पिछड़ापन एवं गरीबी के शिकार हैं. इन वर्गों की महिलाओं की संख्या करोड़ों में हैं. उनके तो जीवन के सभी कष्टों का कारण ही उनके घर के पुरुषों का शराबी होना है, जिस दिन हम शराबबंदी कर देंगे तभी इन वर्गों का कल्याण होगा. इससे पहले उमा भारती मध्य प्रदेश में 15 जनवरी के बाद शराबबंदी को लेकर लट्ठ लेकर उतरने का ऐलान कर चुकीं हैं.

यह भी पढ़ें-  SI-ASI EXAM 2019 की Final Answer Keys अपलोड

मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी शराब लॉबी की बी टीम का काम करेगी?

प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा ने सोशल मीडिया पर लिखा, ‘मेरे भोपाल स्थित निवास पर 18 सितंबर को आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में अगले साल 15 जनवरी, 2022 के बाद मध्य प्रदेश में शराबबंदी अभियान में शामिल होने के मेरे वक्तव्य के बाद इन पांच दिनों में जो प्रतिक्रिया हुई , मैं उन पर क्रमशः अपने भाव व्यक्त करती हूं. पिछड़े वर्गों के 7-8 लोगों के प्रतिनिधि मण्डल से संवाद करते समय मेरी असंयत भाषा के प्रयोग का चोरी से वीडियो बनाकर फिर उसकी क्लिप बनाकर कांग्रेस ने अधिकृत तौर पर जारी किया. उससे तो ऐसा लगता है कि शराबबंदी की गंभीरता से लोगों का ध्यान हटाने के लिए क्या मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी शराब लॉबी की बी टीम का काम करेगी? शराबबंदी से अवैध शराब की बिक्री बढ़ेगी ऐसा बोलने से पहले गुजरात एवं बिहार का अध्ययन करना चाहिए.

गुजरात की तर्ज पर एमपी में हो सकती शराबबंदी

उमा भारती ने आगे लिखा, गुजरात में बीजेपी और बिहार में एनडीए की सरकार हैं. वहां शराबबंदी है एवं वहां के मुख्यमंत्रियों को इस पर गर्व है. अवैध एवं जहरीली शराब पर रोक लगाना, राज्य शासन के लॉ एंड ऑर्डर की जिम्मेदारी है. मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री एवं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतोगुणी एवं दृढ़ निश्चयी व्यक्ति हैं, यही मेरे विश्वास का कारण हैं. प्रदेश में भी गुजरात की तरह बहुत बड़ी संख्या में आदिवासी हैं. जैसे गुजरात ने अपनी शराबबंदी जारी रखते हुए आदिवासियों की परम्पराओं का ध्यान रखा है, हम भी उसी तर्ज पर मध्य प्रदेश में पूर्ण शराबबंदी कर सकते हैं.

उमा भारती ने आगे लिखा, ‘बिहार जो कि मध्य प्रदेश से ज्यादा आबादी का एवं ज्यादा पिछड़ा राज्य है, जब शराबबंदी से राजस्व की हानि के उन्होंने भी विकल्प निकाल लिए तो हम तो कर ही सकते हैं. मध्य प्रदेश में पिछड़े एवं एससी, एसटी वर्ग 92 फीसदी है और इनमें से अधिकतर पिछड़े एवं एससी समुदाय के लोग ही शराब की बुरी लत के कारण बर्बादी, बीमारी, पिछड़ेपन एवं गरीबी के शिकार हैं.

Show More
Back to top button