ओवैसी का PM मोदी पर निशाना, कहा- चीन पर बोलना था बोल गए चना पर

नई दिल्ली. ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (All India Majlis-e-Ittehadul Muslimeen) के प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के राष्ट्र के नाम संबोधन को लेकर निशाना साधा है. एआईएमआईएम (AIMIM) सांसद ओवैसी ने कहा है कि आज चीन (China) पर बोलना था बोल गए चना पर. बता दें पीएम मोदी ने अपने राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (Prime Minister Gareeb Kalyan Yojna) को नवंबर तक बढ़ाने का ऐलान किया है.

असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री कार्यालय को टैग कर ट्ववीट किया- आज चाइना पर बोलना था, बोल गए चना पर. वह भी जरूरी है क्योंकि अनियोजित लॉकडाउन के चलते बहुत से लोगों को बिना भोजन के रहना पड़ रहा है. ओवैसी ने आगे लिखा- ये भी गौर किया कि आपने आने वाले महीनों के कई त्योहारों के नाम लिए लेकिन बकर ईद को छोड़ दिया. चलिए फिर भी आपको पेशगी ईद मुबारक.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को ऐलान किया कि ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ का विस्तार नवम्बर महीने के आखिर तक कर दिया गया है. इससे 80 करोड़ लोगों को और पांच महीनों तक मुफ्त राशन मिलेगा.

पीएम ने लोगों से की लापरवाही न बरतने की अपील
राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने ये घोषणा की और देशवासियों से अपील की कि वे अनलॉक-2 में लापरवाही ना बरतें. उन्होंने कहा कि सारी एहतियात बरतते हुए आर्थिक गतिविधियों को आगे बढ़ाया जाएगा तथा हिन्दुस्तान को आत्मनिर्भर बनाने के लिए दिन-रात एक कर दिया जाएगा.

उन्होंने कहा, ‘‘त्योहारों का समय जरूरतें भी बढ़ाता है, खर्चे भी बढ़ाता है. इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दीवाली और छठ पूजा तक यानि नवंबर महीने के आखिर तक कर दिया जाए.’’

पीएम ने दिया योजना के खर्च का हिसाब
पीएम मोदी ने कहा कि 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज देने वाली यह योजना अब नवंबर तक लागू रहेगी. इस दौरान सरकार 80 करोड़ से ज्यादा गरीब भाई-बहनों को हर महीने पांच किलो गेहूं या पांच किलो चावल मुफ्त मुहैया करायेगी. उन्होंने कहा, ‘‘साथ ही प्रत्येक परिवार को हर महीने 1 किलो चना भी मुफ्त दिया जाएगा.’’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि इस अन्न योजना के विस्तार में 90,000 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च होंगे. उन्होंने कहा, ‘‘और अगर इसमें पिछले तीन महीने का खर्च भी जोड़ दें तो यह करीब-करीब डेढ़ लाख करोड़ रूपया हो जाता है.’’

मोदी ने कहा कि आज सरकार गरीब और ज़रूरतमंद को मुफ्त अनाज दे पा रही है तो इसका श्रेय देश के मेहनती किसानों और देश के ईमानदार करदाताओं को जाता है.