गड्ढे में मिली पांच बच्चों की डेडबॉडी, लाश पर डाला गया था तेजाब

साहेबगंज (मुजफ्फरपुर). यहां एक गड्ढे से एक साथ पांच बच्चों की डेडबॉडी मिली है। बताया जा रहा है कि ये पांचों बच्चे सोमवार दोपहर से गायब थे। पुलिस के मुताबिक, बच्चों के चेहरे और बॉडी पर तेजाब डाला गया है। बच्चों के गायब होने के संबंध में उनकी फैमिली ने पुलिस को सोमवार शाम को सूचना दी थी। 
28 घंटे से लापता थे बच्चे… 
– पुलिस के मुताबिक, बच्चों की डेडबॉडी उनके गांव से दो किलोमीटर दूर निर्माणाधीन रेल लाइन के लिए खोदे गए गड्ढे में मिली। 
– गड्ढे में बारिश का पानी भरा था। दो की बॉडी गड्ढे के किनारे जबकि तीन बच्चों बॉडी पानी में थी जिसे गोताखोर ने बाहर निकाला। 
– बच्चों की बॉडी और चेहरे पर तेजाब डाला गया था। बच्चों की फैमिली ने मर्डर के बाद बॉडी पानी भरे गड्ढे में फेंके जाने की आंशका व्यक्त की। 
– पुलिस के मुताबिक, शिनाख्त न हो, शायद इसलिए चेहरे और बॉडी पर तेजाब डाला गया था। 
– पुलिस ने बताया कि जिस गड्ढे में डेडबॉडी मिली है, उससे 200 मीटर दूर बच्चों के कपड़े और चप्पल रखे मिले हैं। 
घरवालों ने सोचा मेला देखने गए होंगे बच्चे
– बच्चों की डेडबॉडी मिलने के बाद मौके पर गांववालों की भीड़ जुट गई। लोग डॉग स्क्वायड मंगवाने की मांग करने लगे। 
– घटना को लेकर गांववालों में गुस्सा दिखा। दोनों गांव के स्थानीय मुखिया भी लोगों को शांत कराने में जुटे रहे। 
– बताया जा रहा है कि कुरसैदा के रहने वाले शिवपूजन पटेल का 10 साल का करण कुमार, जगन महतो का 13 साल का बेटा उदय कुमार, रंजीत पटेल का 13 साल का बेटा राजा कुमार, पारस पटेल का सात साल का बेटा विक्की कुमार और विजय पटेल का 8 साल का बेटा मिशीर कुमार सोमवार की दोपहर घर से निकले थे। 
– शाम तक बच्चे घर नहीं लौटे तो फैमिली ने खोजबीन शुरू की। उन्हें लगा कि रामपुर पोखरा पर श्रावणी मेला देखने बच्चे चले गए होंगे। 
– देरी होने और बच्चों के घर नहीं लौटने पर फैमिली ने साहेबगंज थानेदार को कॉल कर सूचना दी। उधर, फैमिली और गांववालों ने अपने स्तर से भी बच्चों की खोज शुरू की।
– मंगलवार की सुबह फैमिली थाने पहुंची तो दारोगा सुजीत कुमार और अनिल कुमार श्रीवास्तव बच्चों की तलाश शुरू की। 
– शाम में एक गांववाले ने पानी से भरे गड्ढे के किनारे में राजा और मिसिर की लाश देखी। इसके बाद तीन अन्य बच्चों की बॉडी पानी के बीच में मिली। 
– साहेबगंज थानेदार ने बताया कि मृतक बच्चों के परिजनों के आवेदन के आधार पर मामले की छानबीन की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *