IND को विश्व कप जीतने के लिए मिला 229 रन का टारगेट

आईसीसी महिला विश्व कप के फाइनल में दूसरी बार जगह बनाने वाली भारतीय टीम आज इतिहास रचने के इरादे से खिताबी जंग के लिए मेजबान इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स मैदान पर उतरी है, जिसमें इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धारित 50 ओवर में 7 विकेट खोकर 228 रन बनाए। हालांकि इंग्लैंड की शुरुआत बेहद संभली हुई रही मगर पहले पावर प्ले के बाद भारत ने एक के बाद एक विकेट झटक मेजबान देश की आधी टीम को महज 146 रन पर पवेलियन भेज दिया।
भारत टूर्नामेंट के लीग दौर के अपने पहले मैच में इंग्लैंड को हरा चुकी है। साल 2005 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विश्व कप के फाइनल में हारने वाली भारतीय टीम के लिए रविवार का दिन विशेष है। भारतीय टीम इंग्लैंड के मुकाबले बेहतर फॉर्म में दिखाई दे रही है। इस मैच में 2005 विश्व कप टीम की सदस्य झूलन गोस्वामी चार रन बनाते ही एक हजार रन और सौ विकेट लेने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन जाएंगी।फाइनल में भारत का पलड़ा मेजबान टीम पर भारी लग रहा है। भारतीय टीम में युवा जोश की आक्रामकता और अनुभवी खिलाड़ियों का अच्छा तालमेल है, जो टीम की बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग में दिखाई देता है।
इंग्लैंड के खिलाफ इस मैच में स्मृति मंधाना, पूनम राउत और कप्तान मिताली राज की शानदार बल्लेबाजी के दम पर भारत ने 247 का स्कोर खड़ा करके जीत दर्ज की थी। साथ ही इस विश्व कप में भारत की रोटेशन पॉलिसी में अच्छी रणनीति की छाप दिखाई देती है। मंधाना, मिताली और एकता बिष्ट से लेकर वेदा कृष्णामूर्ति और अब हरमनप्रीत के बारे में सही समय पर सही फैसले लिए गए जो टीम के लिए खासे उपयोगी रहे। भारत के शीर्ष क्रम की तीन बल्लेबाज इस विश्व कप में सेंचुरी लगा चुकी हैं। बाएं हाथ की स्पिनर्स बखूबी विकेट चटका रही हैं।
वहीं, मेजबान टीम को हल्के में लेना भारत के लिए गलत साबित हो सकता है। मिताली इस बात को भलीभांती जानती हैं कि इंग्लैंड अपने घर में मजबूत टीम है। इंग्लैंड की नैट स्काइवर न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के खिलाफ शतक लगा चुकी हैं। वह मैच को अपने पक्ष में करने का माद्दा रखती हैं। वह अपनी टीम को 2009 में न्यूजीलैंड को हराकर विश्व कप ट्रॉफी दिला चुकी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *