इंग्लैंड से लगान वसूलने उतरेंगी भारत की बेटियां

लॉर्ड्‍स। मिताली राज की अगुआई वाली भारतीय महिला क्रिकेट टीम जब रविवार को इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप फाइनल में उतरेगी तो उसके पास इतिहास रचने का मौका होगा। भारतीय टीम दूसरी बार विश्व कप फाइनल में खेलेगी और इस बार उसके पास मेजबान इंग्लैंड को हराकर पहली बार विश्व कप जीतने का सुनहरा मौका रहेगा। वैसे तो महिला विश्व कप में ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड का दबदबा रहा है, लेकिन टीमों के वर्तमान प्रदर्शन को देखते हुए खिताबी मुकाबले में भारत का पलड़ा भारी रहने के आसार है। इंग्लैंड पहले कई बार विश्व कप में भारत को हरा चुकी है, लेकिन इस बार मिताली के पास पिछली सभी हार का बदला लेने का सुनहरा मौका है।
मिताली की टीम इंडिया ने इस विश्व कप के प्रारंभिक मैच में मजबूत दावेदार इंग्लैंड को 35 रनों से हराकर अभियान की शानदार शुरुआत की थी। सेमीफाइनल में 6 बार के चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को हराने से भारतीय टीम के हौसले बुलंद होंगे। भारतीय टीम दूसरी बार विश्व कप फाइनल में पहुंची है। इससे पहले वह 2005 में दक्षिण अफ्रीका में खिताबी मुकाबले में पहुंची थी, जहां उसे ऑस्ट्रेलिया ने 98 रनों से हराया था।
1983 विश्व कप अभियान से तुलना : भारतीय महिला टीम के इस विश्व कप के अभियान की तुलना 1983 के पुरुष विश्व कप की खिताबी जीत से की जा रही है। उस वक्त कपिलदेव के जांबाजों ने सभी पूर्वानुमानों को झुठलाते हुए विश्व कप जीत दुनिया को चौंकाया था। इसके बाद से ही भारत में क्रिकेट की पैंठ गहरी हुई थी और बाद में भारत ने वैश्विक क्रिकेट में अपने पैसे की धाक जमाई थी। इस बार भारतीय महिला टीम का अभियान भी कुछ इस तरह ही चल रहा है।
हरमनप्रीत ने सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ नाबाद 171 रनों की पारी खेलकर कुछ हद तक ‍कपिलदेव द्वारा 1983 में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेली 175 रनों की पारी याद ताजा कर दी थी। टीम इंडिया की उम्मीदें मिताली राज, हरमनप्रीत कौर, पूनम राउत, स्मृति मंधाना, झूलन गोस्वामी, शिखा पांडे, राजेश्वरी गायकवाड़ और दीप्ति शर्मा पर निर्भर करेगी।
इंग्लैंड को कमजोर आंकने की भूल भारतीय टीम नहीं करेगी। पहले मैच में भारत से हारने के बाद इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को 3 रनों से हराया और सेमीफाइनल में द. अफ्रीका पर 2 विकेट से नजदीकी जीत दर्ज की थी। इंग्लैंड की उम्मीदें कप्तान हीथर नाइट, अनुभवी जैनी गुन और कैथरीन ब्रंट पर रहेगी। वैसे टीम की स्टार प्लेयर सराह टेलर है जिन्होंने इंग्लैंड को कई जीत दिलाई।
टीमें (संभावित) –
भारत : पूनम राउत, स्मृति मंधाना, मिताली राज (कप्तान), हरमनप्रीत कौर, दीप्ति शर्मा, वेदा कृष्णमूर्ति, शिखा पांडे, सुषमा वर्मा, झूलन गोस्वामी, राजेश्वरी गायकवाड़, पूनम यादव/एकता बिष्ठ।
इंग्लैंड: लॉरेन विन्फील्ड, टैमी बीयूमोंट, हीथर नाइट (कप्तान), सराह टेलर, नताली शिवर, फ्रान विल्सन, कैथरीन ब्रंट, जैनी गुन, लॉरा मार्श, आन्या श्रबसोले, एलेक्स हार्टली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *